अन्ना ने ‘चेले’ पर कम ‘केंद्र’ पर ज्यादा चलाए तीर

0
44

anna hazareरालेगण सिद्धि। दिल्ली में मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी राजेंद्र कुमार के यहां छापेमारी और भ्रष्टाचार संबंधी शिकायतों के बाद सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने अपने आंदोलन के समय में मुख्य सलाहकार रहे केजरीवाल पर राहत दिखाई। वहीं अन्ना ने इस मामले में केंद्र की खिंचाई की। अन्ना ने तेजरीवाल का बचाव करते हुए कहा, उन्हें सोच-समझकर और जांच पड़ताल के बाद अपने अधिकरी रखने चाहिए। जबकि इस मामले में अन्ना ने केंद्र सरकार जोर का हमला बोला। उन्होंने केंग्र से सवाल किया कि जब राजेंद्र कुमार पर पहले से भ्रष्टाचार थे कार्रवाई में इतनी देर क्यों की।

बुधवार को अन्ना ने कहा कि केंद्र सरकार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के खिलाफ कोई शिकायत मिली थी तो, इस पर कार्रवाई पहले ही होनी चाहिए थी। अन्ना ने यह भी कहा कि अरविंद केजरीवाल को भी अफसर नियुक्त करने से पहले उनकी पृष्ठभूमि की जांच कर लेनी चाहिए थी।

अन्ना ने अहमदनगर जिले में स्थित अपने गांव रालेगण सिद्धि में संवाददाताओं से कहा, “यह घटना (कथित भ्रष्टाचार) अरविंद के कार्यकाल में नहीं हुई है। भाजपा ने बीते डेढ़ साल में इस पर कुछ नहीं किया। कार्रवाई (राजेंद्र कुमार के खिलाफ) तो तभी हो जानी चाहिए थी।”

उन्होंने कहा कि उन्होंने केजरीवाल से हमेशा कहा है कि अपने आस-पास मजबूत चरित्र के लोगों को रखो। अन्ना ने कहा, “शुरुआत से ही, अरविंद भ्रष्टाचार से लड़ रहे हैं। मैंने हमेशा उनसे कहा है कि ‘तुम्हारे आस-पास हमेशा मजबूत चरित्र के लोग होने चाहिए’। किसी को प्रधान सचिव चुनने से पहले उन्हें उसकी पृष्ठभूमि की जांच कर लेनी चाहिए थी।”

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने मंगलवार को भ्रष्टाचार के एक मामले में राजेंद्र कुमार के घर-दफ्तर पर छापा मारा था। दिल्ली सरकार का कहना है कि मुख्यमंत्री के कार्यालय की भी छानबीन की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here