राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने खारिज की फांसी की दो याचिका

0
20

phandaनई दिल्ली। गृह मंत्रालय की सलाह पर मौत की सजा पाए दो अपराधियों मोफिल खान और मुबारक खान की दया याचिका राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने खारिज कर दी। यह जानकारी गृह मंत्रालय के अधिकारियों की ओर से दी गई है। इसे मिलाकर राष्ट्रपति बनने के बाद प्रणव मुखर्जी ने 26 दया याचिका खारिज की है। कुल मिलाकर 31 लोगों को फांसी दी गई है, जबकि मौत की सजा के दो मामलों को बदला गया है।

दोनों को झारखंड में अपने खुद के परिवार के आठ लोगों की हत्या का दोषी ठहराया गया था।

जिनकी दया याचिकाओं को खारिज किया गया है, उनमें 26/11 के दोषी अजमल कसाब, पॉर्ल्यामेंट अटैक के दोषी मोहम्मद अफजल गुरु और 1993 ब्लॉस्ट मामले के दोषी याकूब मेनन शामिल हैं।

मोफिल और मुबारक मामले में गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति सचिवालय को किसी तरह की नरमी न दिखाने की सलाह दी थी। इन दोनों ने 2007 में प्रॉपर्टी के एक विवाद में पांच साल के एक बच्चे और 18 साल के शारीरिक रूप से अक्षम एक व्यक्ति की उनकी दादी के सामने हत्या कर दी थी। दोनों को झारखंड में अपने खुद के परिवार के आठ लोगों की हत्या का दोषी ठहराया गया था।

सुप्रीम कोर्ट ने 9 अक्टूबर 2014 को मुबारक और मोफिल की अपील खारिज कर दी थी, जिसके बाद उन्होंने राष्ट्रपति के यहां माफी की गुहार लगाई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here