वर्ष दर वर्ष : 2015 में जम्मू कश्मीर में सौ आतंकवादी मारे गए

0
34

श्रीनगर में सेना के काफिले पर हमला करने वाला शीर्ष लश्कर-ए-तैयबा आतंकवादी अबू कासिम का मारा जाना बड़ी कामयाबी

जम्मू। जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2015 में सेना के साथ मुठभेड़ में सौ आतंकी मारे गए। इसमें दो साल पहले श्रीनगर में सेना के काफिले पर हमला करने वाला शीर्ष लश्कर-ए-तैयबा आतंकवादी अबू कासिम भी शामिल है। सेना ने यह जानकारी दी।

उत्तरी कमान के प्रवक्ता कर्नल एसडी गोस्वामी ने बताया कि 2015 के दौरान विभिन्न सफल अभियानों में सौ से अधिक आतंकवादी मारे गए जिनमें लश्कर-ए- तैयबा के अबू कासिम जैसे कुछ शीर्ष आतंकी कमांडर शामिल हैं जो 2013 में सेना के काफिले पर हैदरपोरा हमले के लिए जिम्मेदार है। उन्होंने बताया कि आतंकरोधी ग्रिड ने वर्चस्व कायम रखा है और आतंकवादियों को कोई मौका नहीं दिया है।

आतंकवादियों के मारे जाने के अलावा इस साल 350 से अधिक हथियार और 40 आईईडी और विस्फोटकों का जखीरा भी बरामद किया गया। इसके अलावा वॉकी टॉकी और अन्य उपकरण भी बरामद हुए। कर्नल एसडी गोस्वामी कि यह पाकिस्तान के नापाक मंसूबे और जम्मू कश्मीर में आतंकवाद को उकसावा देते रहने को उजागर करता है।

उन्होंने कहा कि राज्य में सुरक्षा व्यवस्था में सुधार हुआ है लेकिन आतंकवादियों के बुनियादी ढांचे अक्षुण्ण बने हुए हैं। हालांकि आतंकवादी घटनाओं में कमी आ रही है और सरकार के विकास कार्य गति पकड़ रहे हैं। इसके साथ ही गोस्वामी ने कहा कि आतंकवादियों की स्थानीय भर्ती चिंता का विषय बना हुआ है। चीन से लगी सीमा के बारे में उन्होंने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर शांति और स्थिरता कायम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here