‘हुनूज़ दिल्ली दूर अस्त’ … नीतीश की पोजिशिनिंग ले रहे तेजस्वी यादव !

0
34

पहले लालू प्रसाद यादव के मंत्री बने दोनों बेटे तेजस्वी व तेजप्रताप मुख्यमंत्री के औपचारिक कार्यक्रमों से दूर रहे पर अपने मंत्रालयों के विज्ञापनों से भी नीतीश को दूर रख रहे

डॉ. मनोज कुमार तिवारी /रिपोर्ट4इंडिया

नई दिल्ली। छोटी उमर और पहली विधायकी में ही सीधे बिहार के डिप्टी मुख्यमंत्री बने तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को धीरे-धीर तव्वजो देना बंद कर दिया है। ऐसा लगता है कि बिहार में एक रणनीति के तहत दोनों तरफ से महत्वकांक्षाओं को पंख लगने लगे हैं। लालू प्रसाद यादव के मंत्री बने दोनों बेटों ने पहले मुख्यमंत्री के कार्यक्रमों में भाग लेना बंद किया और अब अपने मंत्रालयों के विज्ञापनों में नीतीश को फोटो छपवाना भी बंद कर दिया है। हालांकि, इसके पीछे तजस्वी यादव सुप्रीम कोर्ट के आदेश का जो दलील दे रहे हैं, वह सही नहीं है।

bihar-tajaswi-ad-01 बिहार के सीएम के साथ ही जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद ऐसा संकेत मिलने शुरू हो गए हैं कि नीतीश केंद्रीय स्तर पर पार्टियों की गोलबंदी कर दिल्ली पहुंचने का रास्ता बना रहे हैं। हालांकि, विपक्षी भले ही यह कहते हो कि दिल्ली अभी दूर है (‘हुनूज़ दिल्ली दूर अस्त ‘यानी दिल्ली अभी दूर है,  दिल्ली सल्तनत के ग़यासुद्दीन तुग़लक़ की धमकी पर सुफी संत निज़ामुद्दीन औलिया ने जवाब दिया था) पर, लगे हाथ लालू यादव के ‘नीतीश की ओर देखो’ की योजना को तत्काल समर्थन ने एक प्रकार से यह साफ कर दिया है कि देर-सबेर बिहार के ‘योद्धा’ लालू के पुत्र ही होंगे। अब डिप्टी सीएम बने तेजस्वी ने सीधे तौर पर नीतीश को भाव देना कम कर दिया है। तेजस्वी को पता है कि उनके ‘इशारे’ को मीडिया ‘कई कोणों’ से परखेगी और मीडिया जितना परखेगी उतना ही संकेत भी साफ जाएगा।

bihar-tajaswi-ad-01नीतीश के कार्यक्रमों से दूरी बनाने के बाद पटना के अखबारों में डिप्टी सीएम के मंत्रालयों से संबंधित विज्ञापन से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का चेहरा भी गायब कर दिया गया है। पटना के सभी अखबारों में डिप्टी सीएम के मंत्रालय पथ निर्माण विभाग का विज्ञापन चर्चा में है। पिछले दो दिनों में लगातार छप रहे इन विज्ञापनों से नीतीश कुमार की तस्वीर गायब है। इन विज्ञापनों में सिर्फ तेजस्वी की तस्वीर पूरे पन्ने पर छापी गई है। साफ  तौर पर यह दिखाने की कोशि‍श है कि तेजस्वी यादव ही बिहार में एक पावर हैं।

पटना में यह पूरी प्रक्रिया तब तेजी से आगे बढ़ रही है जब नीतीश कुमार फिलवक्त राज्य से बाहर केरल के चुनावी दौरे में व्यस्त हैं। हालांकि, मीडिया में इस मुद्दे के उछलने के बाद जदयू की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here