सदन में भूल जाता है ‘भतीजा’

0
85
abhishek-mamta-benergee

बात-बात पर पीएम मोदी को सीख देने वाली ममता बनर्जी अपने नजदीकी नेताओं को दरकिनार कर मुलायम की तरह परिवार के लोगों को पार्टी में भर्ती करने का अभियान चला रखा है। परंतु, वे सत्ता की मलाई खाने में इतने सुस्त हो गए हैं कि कुछ याद नहीं रख पाते। यहां तक कि लोकसभा में क्या प्रश्न पूछना है, यह भी भूल जोते हैं।  

abhishek-mamta-benergee

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस के सांसद और ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी मंगलवार को लोकसभा में सवाल पूछने के दौरान बेबद बेबस नज़र आए। ऐसा जैसे ‘लगा’ के आएं हों। लोकसभा में अभिषेक बनर्जी अपने सवाल ही भूल गए और लड़खड़ाने लगे। ऐसी हालत देख सभा में सभी कि हंसी निकल गई। छूटे।

दरअसल, प्रश्नकाल के दौरान टीआरएस सदस्य के. कविता के साथ उनका नाम तारांकित सवाल के लिए सूचीबद्ध था। नियम के अनुसार, समय रहने पर प्रश्नकाल के दौरान तारांकित सवालों का मौखिक जवाब दिया जाता है।

सवाल पूछे जाने का समय आने पर कविता सदन में मौजूद नहीं थीं। इसके बाद स्पीकर सुमित्रा महाजन ने सवाल पूछने के लिए अभिषेक का नाम पुकारा। इसके बाद तो नज़ारा ही बदल गया। सांसद अभिषेक को बहुत देर तक जैसे कुछ समझ में ही नहीं आया। इसके बाद स्पीकर ने उनसे कहा, आपका सवाल आने वाला है। अगर आप भूल गए हैं तो छोड़ दीजिए।

अभिषेक की ऐसी हालत देख पार्टी के नेता सुगत बोस और सौगत रॉय उनके बचाव में सामने आए। वे अभिषेक को तारांकित सवाल और केंद्रीय राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो के जवाब के बाद अनुपूरक प्रश्न पूछने का तरीका बताते तबतक तो सदन में ठहाका शुरू हो गया। अभिषेक बनर्जी का सवाल टेक्नॉलजिकल डिवेलपमेंट के लिए सेंटर्स ऑफ एक्सिलेंस और देशभर में राज्यवार उनकी स्थितियों से जुड़ा था।

इस पर बीजेपी सांसद व मंत्री बाबुल सुप्रीयो को तंज कसने का मौका मिल गया। सुप्रियो ने कहा, ‘सबसे पहले मैं उन्हें (अभिषेक) को पूछे जाने वाले सवाल की याद दिलाने के लिए हमारे वरिष्ठ सदस्य सौगत रॉय के प्रयासों के लिए उन्हें शुक्रिया कहना चाहता हूं।’ सुप्रियो ने कहा कि अबतक सरकार ने 8 सेंटर ऑफ एक्सिलेंस के गठन को मंजूरी दे दी है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here