हर हाल में चिदंबरम की गिरफ्तारी चाहती सीबीआई? फैसला सुरक्षित

0
38
p-chidambaram

दिल्ली हाईकोर्ट में आईएनएक्सएक्स केस में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की अग्रिम जमानत अर्जी का सीबीआई ने जमकर किया विरोध। सीबीआई ने कहा, मामले में सहयोग नहीं कर रहे, पूछताछ को कस्टडी में लेना जरूरी।

p-chidambaram

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। आईएनएक्सएक्स घोटाले में सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पर शिकंजा कस दिया है। कोर्ट की सुरक्षा में लगातार सीबीआई से बच रहे चिदंबरम के लिए अब बच पाना मुश्किल होगी। शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट में पी. चिदंबरम की अग्रिम जमानत अर्जी का सीबीआई ने जमकर विरोध किया। सीबीआई ने कहा, मामले में जांच में चिदंबरम सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्हें कस्टडी में लेकर पूछताछ करना बेहद जरूरी है। दिल्ली हाईकोर्ट ने बहस के बाद अग्रिम जमानत पर फैसला सुरक्षित रख लिया। मामले में चिदंबरम के वकील कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने सीबीआई की याचिका का विरोध किया।

सीबीआई ने कोर्ट से कहा कि मामले में आरोपी पी. चिदंबरम से पूछताछ बेहद जरूरी है। जांच एजेंसी ने कहा कि चिदंबरम को जमानत मिली तो उनसे पूछताछ करने में मुश्किल होगी। जांच एजेंसी ने यह भी कहा कि वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं।

कार्ति चिदंबरम सीबीआई कस्टडी में (फोइल फोटो)p.-chidambaram-karti-chidam

जांच एजेंसी ने पी. चिदंबरम पर आरोप लगाया कि बार बार बुलाए जाने के बावजूद भी वह जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और पूछे गए सवालों के जवाब टाल रहे हैं। लिहाजा जबतक उनका कस्टोडियल इंटेरोगेशन नहीं होगा, तब तक वे इस मामले में जांच एजेंसी को कुछ भी बताने को तैयार नहीं होंगे।

सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कोर्ट में कहा कि मामले में पैसे का लेनदेन पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के बैंक अकाउंट के माध्यम से हुआ है। पी.

सीबीआई ने इस मामले में पी. चिदंबरम पर केस चलाने को लेकर केंद्र सरकार से मंजूरी प्राप्त की थी। अनुमति के बाद चिदंबरम ने अग्रिम जमानत अर्जी की याचिका हाईकोर्ट में दाखिल की थी।  वहीं, चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की विदेश यात्रा की इजाजत मांगे जाने वाली याचिका की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट ने 28 जनवरी तक के लिए टाल दी है।

उल्लेखनीय है कि आईएनएक्स मीडिया मामले में 15 मई 2017 को सीबीआई ने केस दर्ज किया था। सीबीआई ने चिदंबरम पर आरोप लगाया गया था कि 2007 में जब वह वित्त मंत्री थे, उस वक्त आईएनएक्स मीडिया को 305 करोड़ रुपये की विदेशी धनराशि प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी दिलाने में कथित अनियमितता बरती गई। मामले में 10 लाख रुपये हासिल करने के लिए चिदंबरम के बेटे कार्ती चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया था। आईएनएक्स मीडिया कंपनी के तत्कालीन निदेशक इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी भी इस मामले में आरोपी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here