ईवीएम के ‘बटन’ ने ‘स्ट्रीगर’ के वर्चस्व को जमींदोज किया

0
31
sukma -polling booth in Gorgunda's Devarpall

छत्तीसगढ़ में चुनाव से पहले हमला कर नक्सलियों ने लोगों को डराने की कोशिश की थी लेकिन असफल रहे। राज्य में पहले दौर में 18 सीटों पर हुआ करीब 70 फीसद मतदान  

छत्तीसगढ़ के सुकमा नक्सल प्रभावित इलाके के गोरगुंडा के देवरपल्ली में मतदाव केंद्र पर लोगों की भीड़।sukma -polling booth in Gorgunda's Devarpall

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। देश में नक्सल प्रभावित राज्यों में शूमार छत्तीसगढ़ में पहले चरण का वोटिंग सोमवार शाम 6 बजे खत्म हो गई। चुनाव से पहले नक्सलियों ने चुनाव में बाधा डालने को लेकर कई हमले किए। परंतु, जिस प्रकार से मतदान केंद्रों के बाहर मतदाताओं की भीड़ उमड़ी, वह नक्सलियों के व्यवहार व विचार पर करारा तमाचा है। राज्य के पहले चरण में करीब 70 फीसद मतदान हुए जो एक रिकॉर्ड है। राज्य में पिछले 15 साल से बीजेपी की सरकार है। हालांकि, वोटिंग खत्म होते ही मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि पहले चरण की 18 में से 14 सीटों पर उनकी जीतेगी।

बहरहाल, चुनाव आयोग ने जानकारी दी है कि पहले चरण में राज्य के 8 जिलों कोंडागांव, केशकाल, कांकेर, बस्तर, दंतेवाड़ा, खैरागढ़, डोंगरगढ़ और डोंगरगांव की 18 विधानसभा सीटों पर वोटिंग हुई, जिसमें करीब 70 फीसद मत पड़े।

नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र के सात जिलों और राजनंदगाव के 18 में से 12 सीटें अनसूचित जनजाति के लिए और एक सीट अनसूचित जाति के लिए आरक्षित है।

वोटिंग के दौरान नक्सलियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया। बीजापुर जिले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ों में सीआरपीएफ के दो अधिकारी समेत पांच सुरक्षाकर्मी घायल हुए। जबकि, दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट किया। राज्य में नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here