कर्नल पुरोहित, साध्वी प्रज्ञा से हटा मकोका

0
118
Col.-Purohit-Saghvi-Pragya

मालेगांव बम धमाके के उपरोक्त आरोपी जमानत पर है। विशेष एनआईए अदालत ने मकोका के आरोप से बरी किया है लेकिन यूएपीए के तहत मुकदमा चलेगा   

Col.-Purohit-Saghvi-Pragyaकर्नल पुरोहित-साघ्वी प्रज्ञा ठाकुर।
नई दिल्ली। महाराष्ट्र के मालेगांव में 2008 में हुए धमाके के मामले में आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित़़, साध्वी प्रज्ञा, रमेश उपाध्याय और अजय राहिकर से महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट (मकोको)  के आरोप को खारिज कर दिया गया। इसके साथ ही विशेष एनआईए अदालत ने इसी मामले में अन्य तीन आरोपी श्याम साहू, शिवनारायण कालसंगरा और प्रवीण तकलकी को सभी आरोपों से मुक्त किया है। जबकि अन्य सभी आरोपियों पर यूएपीए के तहत मुकदमा चलेगा।
इसके साथ ही अदालत ने साध्वी प्रज्ञा, लेफ्टिनेट कर्नल पुरोहित और अन्य आरोपियों के खिलाफ यूएपीए और आईपीसी के तहत आपराधिक साजिश के आरोप तय किये हैं। फिलहाल लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जमानत पर जेल से बाहर हैं।
कर्नल पुरोहित सेना की दक्षिण कमान यूनिट (खुफिया विंग) में अनुशासनात्मक और निगरानी (डिसिप्लिनरी एंड विजिलेंस) प्रतिबंध ते तहत यूनिट में में हैं। मुकदमे के फैसले तक उन्हें किसी सक्रिय ड्यूटी पर नहीं रखा जाएगा। उनकी आवाजाही पर भी कुछ प्रतिबंध होंगे यानी कुल मिलाकर वह ओपेन अरेस्ट रहेंगे। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत ने इसी साल मालेगांव विस्फोट मामले के दो प्रमुख आरोपी सुधाकर चतुर्वेदी व सुहार द्विवेदी को समानता के आधार पर जमानत दे दी थी। दोनों को 50 हजार रुपये की जमानत राशि व अन्य शर्तो के साथ जमानत दी गई।
उल्लेखनीय है कि  29 सितंबर 2008 को मालेगांव में अंजुमन चौक पर शकील गुड्स ट्रांसपोर्ट कंपनी के सामने बम धमाके में छह लोगों की मौत हो गई थी जबकि 101 लोग घायल हो गए ते। जांच में पता चला था कि धमाके के लिए एलएमएल फ्रीडम मोटरसाइकिल में विस्फोटक फिट किया गया था।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here