Gurugram to Ludhiyana : एक लाख 20 हजार वसूलने वाला एंबुलेंस संचालक गिरफ्तार

0
787
Ambulance-crime

“गुरुग्राम प्राइवेट एंबुलेंस वेलफेयर एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, गुरुग्राम के प्राइवेट एंबुलेंस सर्विसेज का मामले का कोई लेना-देना नहीं। हम कोरोना से पीड़ित लोगों की सेवा व राहत के लिए दिन-रात काम कर रहे।”    

Report4india Bureau/ New Delhi-Gurugram.

गुरुग्राम से पंजाब के लुधियाना के लिए एक लाख 20 हजार रुपए वसूलने वाला कार्डियाकेयर एंबुलेंस प्रा.लि. के मालिक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली के दासघड़ा गांव से संचालित एंबुलेंस को ऑनलाइन बुक किया गया था। पीड़ित सतिन्दर कौर की सोशल मीडिया में शिकायत और अफोफसनाक स्थिति का जिक्र किए जाने पर दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज किया है। गुरुग्राम से लुधियाना की दूरी करीब 350 किमी है।

पीड़ित महिला सतिन्दर कौर की बेटी ने बाताया कि वह गुरुग्राम में ही रहती हैं। कोरोना से उनकी मां की तबीयत खराब हुई तो यहां किसी भी अस्पताल में बेड व चिकित्सा की सुविधा उपलब्ध नहीं हो पायी। थक हारकर वह अपनी मां को लुधियाना ले जाना ही बेहतर समझी। उन्होंने इसके लिए ऑनलाइन गुरुग्राम-दिल्ली के एंबुलेंस संचालकों से संपर्क साधने की कोशिश की। उन्होंने दिल्ली के उपरोक्त संचालक से बात की तो उसने पहले एक लाख 40 हजार रुपए बताया। बाद में एक लाख 20 हजार रुपए पर जाने को तैयार हुआ। उन्होंने बताया कि 350 किमी के लिए एंबुलेंस का यह किराया बहुत ही ज्यादा है लेकिन उनके पास कोई चारा नहीं था। उन्होंने कहा, महामारी में यह भारी लूट जैसा मामला है। सरकार व प्रशासन को इसपर जरूरी कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उन्होंने गुरुग्राम के कुछ एंबुलेंस संचालकों से भी संपर्क करने की कोशिश की लेकिन कोई भी तैयार नहीं हुआ।

इस पूरे मामले में मीडिया में गुरुग्राम का नाम सामने आने पर गुरुग्राम प्राइवेट एंबुलेंस वेलफेयर एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष विपिन कुमार जायसवाल ने कहा कि मामले से गुरुग्राम एंबुलेंस संचालकों का कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा, हम कोरोना मरीजों की सेवा को लेकर ‘मिशन मोड’ में काम कर रहे हैं। हमारे कई चालक कोरोना पॉजिटिव भी हो रहे हैं। फिर भी जो हमारी क्षमता है, उससे अधिक इस महामारी में मरीजों की परेशानियों को कम करने को लेकर प्रयत्नशील हैं।