‘प्रिंस’ के हत्यारोपी छात्र को कोई राहत नहीं

0
77
pradyumna

गुरुग्राम सेशन कोर्ट का फैसला, आरोपी छात्र पर बालिग की तरह चलेगा केस  

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

गुरुग्राम। यहां एक नामी स्कूल में दूसरी कक्षा में पढ़ रहे बच्चे की गला रेत कर हत्या किए जाने के मामले में सेशन कोर्ट ने स्कूल के ही आरोपी छात्र को बालिग की तरह मान केस चलाने का निर्णय दिया है। हलांकि, कोर्ट ने मारे गए छात्र, आरोपी छात्र और स्कूल तीनों के सांकेतिक नाम तय किए हैं और उन्हें उसी नाम से बुलाने और लिखित में प्रयोग करने का भी आर्डर दिया है।

पिछले साल 8 अगस्त को गुरुग्राम के एक निजी स्कूल में सात वर्षीय छात्र की गला काट कर की गई हत्या के मामले में आरोपी भोलू (सांकेतिक नाम) पर बालिग की तरह केस की  आर्डर दिया है। मामले की सुनवाई कर रही जसवीर सिंह कुंडू की अदालत ने जस्टिस जुवेनाइल बोर्ड (जेजेबी) के फैसले को सही करार दिया है। इसके अलावा सेशन कोर्ट ने फिंगर प्रिंट और भोलू की तीन दिन की कस्टडी संबंधी याचिका को भी रिजेक्ट कर दिया है।

सेशन कोर्ट के इस फैसले के बाद अब आरोपी छात्र भोलू पर बालिग की तरह हत्या का केस चलेगा। हालांकि, आरोपी छात्र के वकील ने आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दिए जाने की बात कही है।

उधर, मारे गए छात्र प्रिंस (सांकेतिक नाम) के पिता वरुण ठाकुर ने कहा है कि वे शुरू से ही आरोपी पर बालिग की तरह केस चलाए जाने को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहे थे। सीबीआई ने भी माना कि आरोपी पर बालिग की तरह केस चले और उसने इसके लिए कानूनी प्रक्रिया भी अपनाई। उन्होंने कहा, सीबीआई जांच के चलते ऐसा संभव हो सका है। उन्होंने कहा, इस केस में साबीआई की जांच की मांग और जांच ने न्याय पर भरोसा करने की स्थिति पैदा की है।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में सेशन कोर्ट ने 14 मई को ही सुनवाई पूरी हो जाने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने जेजे बोर्ड के फैसले के करीब पांच महीने बाद अपना फैसला दिया।

गौरतलब है कि इस मामले में गुरुग्राम पुलिस की एसआईटी ने पूरे मामले को ही बदल दिया था। टीम ने सीबाआई के आरोपी का जगह स्कूल के ही बस कंडक्टर को प्रताड़ित कर आरोपी बनाकर फंसा दिया और जेल भेज दिया गया। बाद में सीबीआई ने अपनी जांच में पुलिस की पूरी की पूरी थ्यूरी को ही बदल दिया। बस कंडक्टर को क्लीन चिट दिया और असली आरोपी को कोर्ट के सामने प्रस्तुत कर दिया।

पीड़ित पिता ने इस दौरान गुरुग्राम पुलिस पर खुलकर आरोप लगाए और कहा कि गुरुग्राम पुलिस ने तो जांच में असली आरोपी को ही छोड़ दिया था और निर्दोष कंडक्टर को फंसाया था। सीबीआई टीम की बदौलत ही आज असली आरोपी सबके सामने है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here