हिमाचल प्रदेश विस चुनाव : ‘नोबंदी व जीएसटी’ की बिसात पर शुरू वोटिंग की चाल

0
27
Voting-in-Himachal-shimla

2017 में अंतिम दो राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा के अंतर्गत हिमाचल में आज वोटिंग शुरू हुई। सुबह दो घंटे में साढ़े 13 फीसद मतदान हुए। मतदान के लिए लोग बड़ी संख्या में घरों से निकल रहे हैं।   

Voting-in-Himachal-shimlaहिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में बुजुर्ग महिला को सहारा देकर मतदान केंद्र पर ले जा रहे परिजन।

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

शिमला। इस वर्ष मार्च में हुए उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब सहित पांच राज्यों में चुनाव होने के बाद 2017 में अंतिम दो विधानसभा चुनावों हिमाचल प्रदेश व गुजरात में चुनाव की घोषणा हुई थी। इस क्रम में आज बृहस्पतिवार को हिमाचल प्रदेश के 68 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग शुरू हो गई है। इस चुनाव में पहली बार सौ फीसद मतदान केंद्रों पर वीवीपैट वोटिंग मशीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। राज्य में दोनों प्रमुख पार्टियां फिलहाल सत्तारत कांग्रेस व विपक्ष भाजपा आमने-सामने है। यहां चुनाव प्रचार में प्रधानमंत्री मोदी ने जहां बीजेपी की ओर से कई जनसभाओं को संबोधित किया वहीं, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मतदाताओं से अपनी पार्टी को वोट करने की अपील की। पीएम ने सुबह ट्वीट कर मतदाताओं से वोटिंग करने की अपील भी की।
यहां सभी सीटों पर मतदान शाम पांच बजे तक चलेगा। पहले की ही तरह इस बार भी राज्य में चेहरा पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और वर्तमान मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का है।
हालांकि, इस राज्य की प्रकृति रही है हर बार सत्ता बदलने की की। देखना है कि यह बारी-बारी शासन करने वाली टेडेंसी बरकरार रहतीहै फिर इसमें उलट-फेर होता है। हालांकि, प्रचार के दौरान जिस प्रकार से पीएम मोदी ने राज्य का दौरा किया है, उससे पहले राज्य कई योजनाओं को  लॉन्च किया है, उसे कितना समर्थन यहां की जनता देती है। पीएम के जनसभाओं में भारी भीड़ उमड़ी है। वह वोट में तब्दील होती है या नहीं, वोटिंग मशीन खुलने के बाद उसे सीधे पीएम की लोकप्रियता से तौला जाएगा। हालांकि, 2018 में भी कई विधानसभाओं के चुनाव होने हैं लेकिन, कुल मिलाकर 2019 की लोकसभा की पृष्ठभूमि में विपक्ष यानी कांग्रेस ने नोटबंदी और जीएसटी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे को अपना हथियार बनाया है वह आगे चलेगा या नहीं यह भी तय हो जाएगा।
वोटिंग के दौरान बीजेपी के सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल ने कहा, लोगों का भरपूर समर्थन उन्हें मिल रहा है। पार्टी ने 50 प्लस का लक्ष्य रखा था, लेकिन संभवत: हम 60 प्लस सीटेंजीत रहे हैं। उधर, सीएम वीरभद्र सिंह ने दोबारा सत्ता में लौटने का दावा किया है।
हिमाचल की सियासत में 55 साल से काबिज़ रहे 80 वर्षीय वीरभद्र सिंह का यह अंतिम चुनाव है। उन्होंने मतदाताओं के बीच इसे भावनात्मक रूप से उठाया भी है। वे हिमाचल में 6 बार मुख्यमंत्री रहे। 25 साल की उम्र में सांसद बनने का इतिहास भी उनके नाम रहा है। वे अर्की सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।
बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल पहली बार अपने गृह क्षेत्र हमीरपुर से हटकर सुजानपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके बेटे अनुराग ठाकुर हमीरपुर से तीसरी बार सांसद हैं। हालांकि, चुनाव से पहले बीजेपी सीएम पद को लेकर मतदाताओं को संशय में रखना चाहती थी लेकिन बाद में उसने अपनी रणनीति बदली और धुमल का चेहरा आगे किया।

हिमाचल प्रदेश विस चुनाव में तथ्यगत आंकड़े

विस की सीटें – 68

राजनीतिक दल-18

चुनाव मैदान में कुल प्रत्याशी – 337 (पुरुष -318, महिला-19)

सबसे अधिक उम्मीदवार– कांगड़ा में 12, सबसे कम उम्मीदवार-  झाडूता में मात्र दो

कुल मतदाता – 50,25,941

पुरुष मतदाता –25,68,761

महिला मतदाता – 24,57,166

ट्रांसजेंडर मतदाता – 14

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here