अस्वस्थ जीवनशैली : जीवन बस तेजी से भागता जा रहा…

0
82

आपको यह बात समझनी चाहिए कि आप स्वयं अपने जीवन के इंचार्ज हैं… अगर आपको लगता है कोई और आकर आपकी मदद करेगा या आपको आपकी समस्याओं से बाहर निकालेगा तो आपका यह इंतजार बहुत लंबा चलता जाएगा…………….

Report4India Spiritual Desk.

अच्छी सेहत के लिए जितना जरूरी स्वच्छ और संतुलित खानपान है, उतना ही जरूरी ये भी है कि आप किन लोगों के साथ उठते-बैठते हैं, किस वातावरण में रहते हैं और साथ ही अपने आसपास के लोगों का कितना सम्मान करते हैं।

यह बुद्धिमता से परिपूर्ण एक ऐसा लोकप्रचलित तथ्य और है जिसे आज के जमाने में भुला दिया गया है, या जिसकी महत्ता पर अब ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता।

वर्तमान समय में हमारे समाज की जो स्थिति है, उसके मद्देनजर यह कहना गलत तो नहीं होगा कि हम अस्वस्थ जीवनशैली, अस्वस्थ खानपान के प्रति आकर्षित होने लगे हैं, जहां हम घर के खाने की जगह फास्ट फूड और चीनी से भरे भोजन करते हैं, कम सोते हैं, न्यूनतम व्यायाम करते हैं, साथ ही ना तो हमारे पास किसी से बात करने का समय है.. हम बस चिंता करने में ही मशगूल रहते हैं।

ये बात हम जानते हैं कि इतनी तेजी से भागता हुआ हमारा जीवन बहुत लंबे समय तक नहीं चलने वाला। अगर हम सौभाग्यशाली हुए तो हम किसी जिम की मेंबरशिप लेकर, योगा क्लास जॉइन कर या फिर ध्यान करने की कला सीखकर  बेहतर स्वास्थ्य का आनंद भी उठा सकते हैं।

लेकिन हम में से अधिकांश लोग टी.वी. के सामने सोफ़े पर लेटकर रिमोट उठाने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं।

ऊर्जा से परिपूर्ण वास्तविक भोजन के लिए परिवार और दोस्तों के साथ वास्तविक रूप से समय बिताना, किसी गार्डन या पार्क में ताजी हवा और खिली धूप में बैठकर स्वयं के साथ समय बिताना जरूरी है। हम सभी इंसान हैं, जब हम शांति से बैठकर खुली हवा का आनंद उठाते हैं तब हम अपने शरीर को स्वस्थ और संतुलित होने का चांस मुहैया करवाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here