लोकसभा चुनाव : सीट बदलना चाहते हैं ज्यादातर वर्तमान सांसद

0
186
bjp

सभी दलों के कई वर्तमान सांसद व मंत्री अपना चुनाव क्षेत्र बदलना चाहते हैं। इसके पीछे दो कारण हैं पहला कि एंटी इन्कंबेंसी का डर और दूसरा जीतने की स्थिति में नहीं होने पर टिकट कटने का डर। बीजेपी की पीलीभीत से सांसद व केद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने हरियाणा के करनाल से चुनाव लड़ना चाहती है।

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। चुनाव घोषणा के बाद राजनीतिक पार्टियों में उम्मीदवारों के चयन व ऐलान का काम शुरू हो गया है। पार्टियों का जोर पहले चरण के चुनाव को लेकर है। इस दौरान कई वर्तमान सासंद व मंत्री अपनी पसंद के अनुरूप सीट से चुनाव लड़ने के लिए प्रयासरत हैं। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी अपनी परंपरागत पीलीभीत लोकसभा सीट छोड़कर हरियाणा के करनाल से चुनाव लड़ने को उत्सुक हैं।

लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी का जोर ऐसे उम्मीदवारों पर है जो जीत की गारंटी हों। ऐसे में उत्तर प्रदेश से बड़े पैमाने पर वर्तमान सासंदों का टिकट काटी जा सकती है। हालांकि, गठबंधन में सीटों के तालमेल के बाद भी सांसदों के सीट बदलने अथवा टिकट कटने का डर है।

केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने पार्टी नेतृत्व को करनाल से चुनाव लड़ने की मंशा जताई है।

बिहार की बात करें तो बीजेपी-जेडीयू और लोजपा के गठबंधन के बाद बीजेपी के पांच वर्तमान सांसदों का टिकट कटना अथवा उनमें बदलाव तय है। हालांकि, शत्रुघ्न सिन्हा जो बीजेपी के खिलाफ चल रहे हैं और उनको दोबारा बीजेपी का टिकट मिलने का कोई मौका नहीं है। कीर्ति आजाद पार्टी छोड़ कांग्रेस में जा चुके हैं। बेगूसराय के सांसद भोला सिंह का निधन हो चुका है। उधर, नवादा सीट लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के हिस्से में जाने से सांसद गिरिराज सिंह का क्षेत्र बदल सकता है।

उधर, कई नेता पार्टी छोड़ रहे हैं। महाराष्ट्र में प्रकाश अंबेडकर नीत आरपीआई ने कांग्रेस के साथ गठबंधन से इनकार कर अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here