बज़ट पर सबकी नज़र : छूट पर टकटकी, टैक्स रिबेट पर जान अटकी

0
431
बज़ट की खाता-बही को लेकर राष्ट्रपति से मंजूरी के लिए वित्त मंत्रालय से निकलती वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर व मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी।

बज़ट से पहले बीएसई और निफ्टी खुलते ही 150 अंक तक गिरा, 11 बजे संसद में पेश होगा समन्वित बज़ट 

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो/ नई दिल्ली।
केंद्रीय सरकार वर्ष 2020 के लिए वार्षिक बज़ट पेश करने जा रही है। बज़ट से किसान, कामगार, नौकरी-पेशा, उद्योग और निवेश को लेकर कुछ बड़े बदलाव को लेकर लोगों में चर्चा है। आर्थिक विकास की सुस्त रफ्तार को लेकर भी लोगों की उम्मीद है कि इस बज़ट से कुछ राहत मिलनी चाहिए। नौकरी-पेशा वालों की हमेशा से मांग रही है कि उन्हें टैक्स में छूट की राशि को बढ़ाया जाए। उधर, उद्योग भी इस बज़ट से उम्मीद लगा रहा है कि मैन्युफैक्चरिंग यूनिटों को राहत दी जाए ताकि रोजगार के साथ उत्पाद की रफ्तार भी बढ़ सके।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन और वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर बज़ट की बही-खाता लेकर राष्ट्रपति से मिलने राष्ट्रपति भवन पहुंची जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बज़ट पेश करने को मंजूरी दी। शनिवार को सुबह साढ़े 10 बजे केंद्रीय मंत्रीमंडल की बैठक में बजट को मंजूरी दी जाएगी और 11 बजे संसद में बज़ट प्रस्तुत होगी।

वर्तमान में टैक्स स्लैब-

टैक्स रेट सामान्य नागरिक वरिष्ठ नागरिक(60-80 साल) अति वरिष्ठ नागरिक (80 से अधिक)
0 प्रतिशत ढाई लाख रुपये तक 3 लाख रुपये तक 5 लाख रुपये तक
5 प्रतिशत 2,50,001 से 5,00,000 3,00,001 से 5,00,000 शून्य
20 प्रतिशत 5,00,001 से 10 लाख 5,00,001 से 10 लाख 5,00,001 से 10 लाख
30 प्रतिशत 10 लाख से अधिक 10 लाख से अधिक 10 लाख से अधिक

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here