100 करोड़ उगाही गैंग में शरद पवार की भूमिका गंभीर, महाअघाड़ी सरकार का नैतिक पतन

0
143
नई दिल्ली में रविवार को प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद।

“बीजेपी ने एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार को मुख्य संदिग्ध माना, मुंबई और महाराष्ट्र में गृहमंत्री के अवैध उगाही के आदेश के खिलाफ पूरे महारष्ट्र में बीजेपी का प्रदर्शन”

Report4 india National Bureau/ New Delhi.

महाराष्ट्र में मुंबई के पूर्व कमिश्नर और वर्तमान डीजी परमबीर सिंह के खुलासे से पूरे देश में हड़कंप मच गया है। सवाल यह खड़ा हो गया है कि क्या लोकतंत्र में सरकार बनाने का मतलब अवैध वसूली हो गया है। इस घटना को बेहद शर्मनाक और संदिग्ध मानते हुए महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे नीत महाअघाड़ी की सरकार का अब पूरी तरह से नैतिक पतन हो गया है और यह सरकार अब एक पल भी सत्ता में नहीं रह सकती है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने रविवार को इस पूरे मामले में पार्टी की तरफ से प्रेस कांफ्रेस कर शरद पवार पर गंभीर आरोप लगाए और कई महत्वपूर्ण सवाल उठाए। उन्होंने मीडिया से भी कहा कि यह बेहद गंभीर और देश में अबतक की भ्रष्टाचार की सबसे नृशंस मामला है और इसे इसी तरीके से लें।

परमबीर सिंह के खुलासे को संदर्भ में रविशंकर प्रसाद कई महत्वपूर्ण सवाल मीडिया के सामने उठाए और कहा कि 17 साल से सस्पेंडेड औऱ मर्डर केस में आरोपित एक सब-इंस्पेक्टर जैसे पुलिस अनिल वाजे को करोना काल में नियुक्त कर क्राइम इन्वेस्टिगेशन सेल का चीफ बनाना बहुत कुछ गंभीर सवाल खड़े करता है। एक विवादित व सस्पेंडेड सब-इंस्पेक्टर का सीएम उद्धव ठाकरे द्वारा विधानसभा में और विधासनसभा से बाहर डिफेंड करना यह बताता है कि गुत्थी कहां तक जाती है।

उन्होंने परमबीर सिंह के पत्र के हवाले से सवाल खड़ा किया कि शरद पवार किस हैसियत से पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को निर्देशित करते थे। परमबीर सिंह ने 100 करोड़ की उगाही टारगेट के बारे में शरद पवार को बातया था उन्होंने क्या किया। उन्होंने यह सवाल उठाया कि वसूली की इस रकम के बंदरबाट में अनिल देशमुख के अलावा किस-किस की हिस्सेदारी रही है। उन्होंने साफतौर पर इस मामले में शरद पवार की भूमिका की जांच की मांग की।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि, जिस मामले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और पुलिस की डीजी शामिल हो उसकी जांच महाराष्ट्र सरकार के स्तर पर नहीं हो सकती।

रविशंकर प्रसाद ने यह भी कहा कि केवल मुंबई से प्रतिमाह 100 करोड़ अवैध उगाही का टारगेट था तो फिर पूरे महाराष्ट्र से कितने करोड़ की उगाही का टारगेट दिया गया, इसकी भी जांच हो। इसके साथ ही उन्होंने यह सवाल उठाया कि जब गृहमंत्री पुलिस को 100 करोड़ प्रतिमाह उगाही का टारगेट देता है तो फिर सरकार के अन्य मंत्रियों के अवैध उगाही का टारगेट क्या है, इसकी भी जांच हो। उन्होंने कहा, यह सरकार नैतिक रूप से शासन का अधिकार खो चुकी है और बीजेपी इस सरकार के बने रहने के खिलाफ पूरे महाराष्ट्र में विरोध-प्रदर्शन करेगी। इसके अलावा इसी मामले में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम व विपक्ष के नेता देवेंद्र फणनवीस भी प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here