ऑक्सीजन, दवा को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने ‘नेशनल टास्क फोर्स’ का गठन किया

0
587

प्राइवेट अस्पतालों के डॉक्टरों को भी टॉस्क फोर्स का सदस्य बनाया गया

report4india bureau/ New Delhi.

कोरोना के मामले में आज सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने एक नेशनल टॉस्क फोर्स का गठन किया है। यह टॉस्क फोर्स ऑक्सीजन व जरूरी दवाईयों के वितरण व उपलब्धता पर नजर रखेगी। इस टॉस्क फोर्स में निजी अस्पतालों जैसे सर गंगाराम अस्पताल, मेदांता मेडीसिटी, मैक्स जैसे अस्पतालों के मालिक डॉक्टरों को सदस्य बनाया गया है। एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़े- टू-डीजी : कोरोना से भिड़ंत में आगे बढ़े हम, DRDO की नई असरदार दवा 

इस टॉस्क फोर्स में 10 डॉक्टर और 2 अधिकारी होंगे, जिसमें कैबिनेट सचिव शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट लगातार इस मामले को लेकर सुनवाई कर रहा था और कोई बड़ा कदम उठाने की बात भी कही जा रही थी। चुकि, सुप्रीम कोर्ट चाहता था कि दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिले जबकि केंद्र सरकार का कहना था कि जिस भी राज्य को जो एक्चुअल जरूररत और उपलब्धता के आधार पर वितरण का प्राथमिकता मिले। केंद्र सरकार की तरफ से ऑक्सीजन की ऑडिट कराए जाने की बात कही गई थी। केंद्र सरकार चाहती थी कि कोई एक ऐसी प्रणाली बनाई जाय जिससे की ऑक्सीजन को लेकर राजनीति न हो।