Ultimately…PFI banned

0
118

कांग्रेस के शासनकाल में पूरे देश में पैर पसारने वाला इस्लामिक आतंकी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उससे जुड़े सांगठनों पर मोदी सरकार ने पांच साल के लिए प्रतिबंध लगाया है। साथ ही, इस आतंकी संगठन से जुड़े सभी व्यक्तियों-प्रतिनिधियों को भी प्रतिबंधित किया गया है ताकि, आगे वे किसी अन्य संगठन न जुड़ सकें और न हीं कोई अन्य नया संगठन बना सकें।  

Manoj Kumar Tiwary@ report4india/ New Delhi.

पूरे देश में आतंकी व हिंसात्मक गतिविधियों को संगठित रूप से चलाने वाला विवादित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ (पीएफआई) को केंद्रीय गृहमंत्रालय ने पांच सालों के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। हाल में ही एनआईए, ईडी, सीबीआई व अन्य सुरक्षा एजेंसियों की सम्मिलित कार्रवाई में मिले अकाट्य सबूतों आधारित रिपोर्ट पर इस संगठन को प्रतिबंधित कर दिया गया। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस बाबत नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। पीएफआई पर बैन लगाने का देशभर में स्वागत किया गया है। इस संगठन पर यूएपीए के तहत कार्रवाई की गई है।

इसके साथ ही, सरकार ने पीएफआई से जुड़े कई संगठनों को भी प्रतिबंधित किया गया है और उसकी आधिकारिक वेवसाइट को हटा दिया गया है। दिल्ली व उज्जैन में पीआईएफ के दफ्तर सील कर दिये गये हैं।

इस कार्रवाई के बाद देश भर में सुरक्षा के अलर्ट जारी किये गये हैं। दिल्ली के शाहीनबाग में पुलिस ने फ्लैगमार्च किया गया। देशभर में पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड पर हैं। केंद्रीय गृहमंत्रालय ने सभी राज्यों को पीएफआई से जुड़े संगठनों पर ‘यूएपीए’ के तहत कर्रवाई करने की अनुमति दी।

उल्लेखनीय है कि सुरक्षा व जांच एजेंसियों के सम्मिलित छापेमारी में जो सबूत हाथ लगे हैं, वे बेहद चैकाने वाले हैं। जांच में पीएफआई के साथ विदेशी आंतकी संगठनों के साथ सीधे तार जुड़े हुए हैं, जिनमें ISIS, अलकायदा, आईएसआई, अफगानिस्तान स्थित आतंकी संगठन, तुर्की के कट्टर इस्लामिक संगठनों के साथ संबंधों व आर्थिक लेन-देन के सबूत मिले हैं। यहां तक कि, पीएफआई अपने सदस्यों को अफगानिस्तान प्रशिक्षण के लिए भेजता था।

राष्ट्रवादी लोगों, पार्टियों-संगठनों ने किया स्वागत, …कांग्रेस का विरोध 

नरोत्तम मिश्रा (गृहमंत्री, मध्य प्रदेश)- कड़ी कार्रवाई का स्वागत, कमर तोड़ना जरूरी।

योगी आदित्यनाथ– प्रतिबंध का स्वागत, PFI राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल

एकनाथ शिंदे (महाराष्ट्र सीएम)- देश की अखंडता, संप्रभुता और कानून व्यवस्था को बाधित करने की कोशिश करने वाले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) पर प्रतिबंध लगाने के केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत। 

कर्नाटक गृहमंत्री ने आतंकी संबंधों पर पीएफआई व पांच अन्य संगठनों पर प्रतिबंध का स्वागत किया

के. सुरेश (कांग्रेस सांसद व लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के मुख्य सचेतक) – प्रतिबंध कोई उपाय नहीं, पीआईअफ पर बैन क्यों? आरएसएस पर भी बैन लगे।

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक और केपी मौर्य (उत्तर प्रदेश)- देश के गृहमंत्री अमित शाह के फैसले की सराहना और धन्यवाद, …निर्णय का स्वागत। विरोध करने वालों को भारत जवाब देगा।