अगला तिब्बती धर्मगुरु भारत से : दलाई लामा

0
212
http://www.report4india.com/wp-content/uploads/2016/03/dalai-lama-e1552976758749.gif
फाइल फोटो।

चीन द्वारा तिब्बत को हड़पने के बाद उसका विरोध कर रहे तिब्बती धर्मगुरु पिछले 60 साल से भारत में निर्वासित जीवन जी रहे हैं। उन्होंने कहा, उनका धार्मिक उत्तराधिकारी भारतीय होगा।

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो (एजेंसी इनपुट के साथ)

नई दिल्ली। तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने साफतौर पर कहा है कि उनका उत्तराधिकारी भारत में होगा न कि चीन से। दलाई लामा ने यह व्यक्तव्य अपने निर्वासन के 60 साल पूरे होने पर कही। तिब्बत पर कब्जे पर दलाई लामा 1959 से ही भारत में शरण लिए हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि भारत की आज़ादी के बाद ही चीन ने 1950 में तिब्बत को अपने नियंत्रण में ले लिया। उसके बाद से ही वे तिब्बत की आजादी को लेकर संघर्षरत हैं। जब चीन ने न्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की तो वे अपने समर्थकों के साथ भारत में आ गए। भारत में निर्वासित तिब्बत सरकार की स्थापना की।

चीन दलाई लामा को खतरनाक अलगाववादी बताता है। चीन ने दलाई लामा के खिलाफ अपना लामा (अवतार) चयनित करता है। दलाई लामा ने कहा, चीनी द्वारा चुना हुआ दलाई लामा का कोई सम्मान नहीं करेगा।

उल्लेखनीय है कि दलाई लामा को भारत में शरण देने के लिए चीन भारत पर आरोप लगाया है। जबकि, भारत का मत है कि तिब्बत भारत और चीन के बीच स्वतंत्र बफर स्टेट रहा है और प्राचीन काल से  भारत के साथ भारत के घनिष्ट रिश्ते रहे हैं। तिब्बत पर चीन के कब्जे के बाद भारत इसका विरोध करता रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here