दक्षिण एशिया में ‘भारत संग अमेरिकी नीति’ से हांफने लगा पाकिस्तान

0
26
modi-trump-01

दक्षिण एशिया में पाकिस्तान और अफगानिस्तान सहित इस पूरे क्षेत्र में अमेरिका का जो पहले का कवरअप था, उसमें पाकिस्तान की चाल देखकर बड़े पैमाने पर बदलाव के संकेत अमेरिका ने दिए हैं। अमेरिका अफगानिस्तान और पाकिस्तान के संदर्भ में भारत को साथ लेकर समग्र नीति बनाने पर काम कर रहा।  

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। पाकिस्तान को उत्तर और दक्षिण दोनों तरफ से घेरने की नई रणनीति पर काम करने की अमेरिकी घोषणा ने इस आंतकी देश की पेशानी पर बल पैदा कर दिया है। पाकिस्तान की आतंक परस्त और भारत को निशाना बनाने की नीति के मद्देनज़र अमेरिका ने कहा कि अब वह पाकिस्तान को लेकर अलग तरीके से काम करेगा।
दरअसल, भारत को आर्म्ड ड्रोन देने को भारतीय प्रस्ताव को लेकर पाकिस्तान विरोध कर रहा है। इस विरोध पर अमेरिका ने उल्टे पाक को धमकाने और समझाने की तौर पर कहा है कि, पहले वह अपने यहां से आतंकी संगठनों के संपूर्ण सफाए को लेकर ईमानदारी से काम करे। अमेरिका अब पाकिस्तान को लेकर अपनी नीति में बड़ा बदलाव ला रहा है। इससे पाक की चिंता बढ़ गई है। कुछ दिन पहले ही अमेरिकी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि वे सशस्त्र ड्रोन देने के भारतीय अनुरोध पर विचार कर रहे हैं।
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने भारत के अनुरोध का विरोध करते हुए शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हथियारों के किसी भी हस्तांतरण से क्षेत्रीय स्थिरता बनाए रखने के सिद्धांत को ध्यान में रखा जाना चाहिए। पाकिस्तान ने मांग की कि सशस्त्र ड्रोन के किसी भी हस्तांतरण से पहले इस संदर्भ में मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण तंत्र (एमटीसीआर) समेत बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण तंत्र के दिशानिर्देशों का बारीकी से परीक्षण किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र से बाहर की ताकतों को ऐसा कोई भी कदम उठाने से पहले सचेत रहना चाहिए जो दक्षिण एशिया में रणनीतिक स्थिरता को कम करता हो।
हालांकि, अमेरिका में ट्रंप प्रशासन ने कई बार साफ किया है कि दक्षिण एशिया में पाकिस्तान और अफगानिस्तान सहित इस पूरे क्षेत्र में अमेरिका का जो पहले का कवरअप था, उसमें पाकिस्तान की चाल देखकर बड़े पैमाने पर बदलाव जरूरी है। वह अफगानिस्तान और पाकिस्तान के संदर्भ में भारत को साथ लेकर समग्र नीति बनाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here