बीते पांच सालों में तस्वीरें बदली, …उम्मीदों के पर लगे  

0
75
modi-pm-red-fort

लालकिला से प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन

25 सितम्बर से 10 करोड़ परिवार को मेडिकल बीमा सुविधा, 2022 तक अंतरिक्ष में भारतीय यान में तिरंगा लेकर जाएंगे भारतीय

modi-pm-red-fort

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांचवीं बार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किला से देश को संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कई मुख्य बातों को देश की जनता के सामने रखा, अपने इरादे भी बताए। उन्होंने कहा कि भारत अपनी मजबूत अर्थव्यवस्था के साथ सकारात्मकता और आत्मविश्वास से आगे बढ़ रह है। वर्षों पूर्व जो भारत को सोया हाथी बता रहे थे, वह सोया हाथी अब जब गया है और उसकी लोहा दुनिया मानने लगी है।

पीएम ने कहा कि “भारत आज दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। इससे दुनिया में भारत को लेकर बेहद सकारात्मक माहौल बनाया है। इसका परिणाम हुआ है कि हम दुनिया के कइ महत्वपूर्ण संस्थाओं में सदस्य बने हैं।”

pm-modi-from-redfort

महत्वपूर्ण बातें-

-25 सितंबर 2018 को पंडित दीन दयाल की जयंती पर, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू। इससे 10 करोड़ गरीब परिवारों को इलाज मिल सकेगा। कोई भी गरीब उपचार के बिना मरना नहीं चाहता।

-सरकार ने दलितों और पिछड़े वर्गो के उत्थान के लिए किए कार्य किया। मानसून सत्र में सरकार ने वंचित लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया है।

-मुसलमान महिलाओं को यकीन दिलाता हूं कि संसद में कानून लाकर तीन तलाक की कुरीति से उन्हें मुक्त करेंगे। कुछ लोग नहीं चाहते की ये कानून आए, इसे पारित नहीं होने दे रहे हैं लेकिन हम बहनों की जिंदगी बर्बाद नहीं होने देंगे।

-सशस्त्र सेना में महिलाओं को स्थायी नौकरी की घोषणा, लालकिले से देश की बेटियों को तोहफा

-मैं बेसब्र हूं ताकि मेरा देश बाकी देशों से आगे निकले, मैं व्याकुल हूं कि मेरे देश के बच्चे कुपोषण मुक्त हो जाए. हम भविष्य को देखना ही नहीं बल्कि भविष्य में उस शिखर पर पहुंचना भी चाहते हैं।

-हमें देश को नई ऊंचाई पर ले जाना है। सबका साथ सबका विकास कोई भेदभाव नहीं, कोई भाई-भतीजावदा नहीं।

-देश को बालात्कार की राक्षसी मनोवृत्ति से बाहर निकालना होगा। कटनी की एक फास्ट ट्रैक कोर्ट ने पांच दिन में बालात्कार के दोषी को फांसी की सजा सुनाई और पीड़िता को न्याय मिला।

-पहली बार सुप्रीम कोर्ट में तीन महिला जज, हमारी कैबिनेट में भी महिलाओं को सर्वाधिक जगह

-2013 तक 4 करोड़ लोग टैक्स भरते थे आज पौने सात करोड़ लोग टैक्स देते हैं।

-ईमानदार करदाताओं को यकीन दिलाता हूं आपके कर के कारण ही जब आप खाना खाते हैं तो उसी वक्त तीन गरीब परिवार का पेट भरता है, इससे ज्यादा मन की शांति और पुण्य क्या हो सकता है।

-जो लोग पैदा नहीं हुए उनके नाम पर 6 करोड़ फर्जी लाभार्थी 90 हजार करोड़ की रकम ले जाते थे. हमने ऐसे फर्जीवाड़े को पहचाना और असली लाभार्थियों तक रकम पहुंचाने का काम किया।

-आज हम जहां एक तरफ #DigitalIndia को लेकर आगे बढ़ रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ दिव्यांगजनों के लिए कॉमन साइन डिक्शनरी बनाने का काम भी उतने ही लगाव के साथ किया जा रहा है: पीएम

-एक समय था जब घर के अंदर और घर के बाहर ‘रेड टेप’ की बातें होती थी लेकिन आज ‘रेड कार्पेट’ की बातें हो रही हैं: प्रधानमंत्री

-आज देश ईमानदारी का उत्सव मना रहा है।

-स्वच्छता अभियान से तीन लाख बच्चों की जान बची। देश में गरीबों के बच्चे स्वच्छता के कारण ही बच सके।

-4 साल में देश बदलाव महसूस कर रहा है, आज देश दोगुनी हाईवे बना रहा है तो गांवों में 4 गुना ज्यादा नए घर बनाए जा रहे हैं।

-नीति और नीयत ऐसी हो कि सबको सम्मान से जीने का अधिकार मिले. हमने गरीब के घर गैस पहुंचाने का काम किया, गरीब के घर में बिजली पहुंचाने का काम किया।

-जिस रफ्तार से 2013 में गैस कनेक्शन दिया जा रहा था, अगर वही पुरानी रफ्तार होती तो देश के हर घर में सालों तक भी गैस कनेक्शन नहीं पहुंच पाता।

-आज देश मछली उत्पादन में दुनिया में दूसरे नंबर पर है. देखते ही देखते ये नंबर वन के स्थान पर पहुंच जाएगा

-हम मक्खन पर लकीर नहीं, पत्थर पर लकीर खींचने वाले हैं

-आज हमारा पूरा ध्यान कृषि क्षेत्र में बदलाव लाने का, आधुनिकता लाने का है

-मेरा सौभाग्य है कि इस पावन अवसर पर मुझे देश को एक और खुशखबरी देने का अवसर मिला है। साल 2022, यानी आजादी के 75वें वर्ष में और संभव हुआ तो उससे पहले ही, भारत अंतरिक्ष में तिरंगा लेकर जा रहा है।

-13 करोड़ मुद्रा लोन, उसमें भी 4 करोड़ लोगों ने पहली बार लोन लिया है, ये अपने आप में बदले हुए हिन्दुस्तान की गवाही देता है।

-2014 से अब तक मैं अनुभव कर रहा हूं कि सवा सौ करोड़ देशवासी सिर्फ सरकार बनाकर रुके नहीं। वो देश बनाने में जुटे हैं।

-नॉर्थ-ईस्ट आजकल उन खबरों को लेकर आ रहा है जो देश को प्रेरणा दे रहा है।

-एक समय था जब नॉर्थ ईस्ट को लगता था कि दिल्ली बहुत दूर है, आज हमने दिल्ली को नॉर्थ ईस्ट के दरवाजे पर लाकर खड़ा कर दिया है।

-2014 से पहले दुनिया की गणमान्य संस्थाएं और अर्थशास्त्री कभी हमारे देश के लिए क्या कहा करते थे, वो भी एक जमाना था कि हिंदुस्तानी की इकॉनोमी बड़ी रिस्क से भरी है वही लोग आज हमारे रिफॉर्म की तारीफ कर रहे हैं।

-गरीबों को न्याय मिले, हर किसी को उसकी इच्छा और आकांक्षाओं के हिसाब से आगे बढ़ने का अवसर मिले हम यही चाहते हैं। महान तमिल कवि, दीर्घदृष्टा और आशावादी सुब्रामणियम भारती ने लिखा था कि भारत न सिर्फ एक महान राष्ट्र के रूप में उभरेगा बल्कि दूसरों को भी प्रेरणा देगा।

-जिस रफ्तार से 2013 में गांवों तक ऑप्टिकल फाइबर पहुंचाने का काम चल रहा था, उस रफ्तार से देश के हर गांव को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने में कई पीढ़ियां गुजर जातीं।

-जिस रफ्तार से 2013 में गैस कनेक्शन दिया जा रहा था, अगर वही पुरानी रफ्तार होती तो देश के हर घर में सालों तक भी गैस कनेक्शन नहीं पहुंच पाता।

-देश की अपेक्षाएं और आवश्यकताएं बहुत हैं, उसे पूरा करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार को निरंतर प्रयास करना है।

-हम कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य रखते हैं क्योंकि देशहित हमारे लिए सर्वोपरी है।

-जब हौसले बुलंद होते हैं, देश के लिए कुछ करने का इरादा होता है तो बेनामी संपत्ति का कानून भी लागू होता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here