राजनीति का ‘धोबिया पछाड़’ …और ‘उन्हें’ कहते हैं राजनीति का ‘चाणक्य’

0
164

वे बैठकों पर बैठकें करते रहे, कॉमन मिनिमम प्रोग्राम तय करते रहे, सीएम-डिप्टी सीएम पर मंथन करते रहे परंतु अंतिम समय में महाराष्ट्र में फिर सरकार बना ले गई बीजेपी। अजित पवार के नेतृत्व में एनसीपी विधायकों के एक धड़े ने बीजेपी की सरकार बनवा दी। फडणवीस ने ली CM पद की शपथ, अजित पवार बने डिप्टी सीएम

मनोज कुमार तिवारी/ रिपोर्ट4इंडिया

नई दिल्ली/ मुंबई (एजेंसी इनपुट सहित)। ठीक एक माह पहले 24 अक्टूबर को महाराष्ट्र विस चुनाव का परिणाम आया था और शिवसेना ने अपना सीएम बनाने के नाम से बीजेपी गठबंधन को ठेंगा दिखाकर एनसीपी और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने के लिए मंथन शुरू किया और तीन सप्ताह तक बैठकों पर बैठकें होती रहीं परंतु, बीजेपी चुपके से किस राजनीति को साध रही थी, न तो कांग्रेस, शिवसेना और शरद पवार को पता चला और न ही मीडिया को। शनिवार को सुबह होते ही बीजेपी के नेतृत्व में महाराष्ट्र में सरकार बन गई। देवेंद्र फडणनवीस ने सीएम के रूप में शपथ ली जबकि अजित पवार ने डिप्टी सीएम के रूप में शपथ ले ली। नई सरकार को 30 नवम्बर तक बहुमत साबित करने का समय तय किया गया है।

शुक्रवार को रात नौ बजे तक कांग्रेस व एनसीपी के नेता सरकार गठन को लेकर कुछ अन्य बातों पर मंथन करने के लिए शनिवार को समय तय किया था। हालांकि, इस दौरान शरद पवार ने कहा था कि सीएम के मसले पर तीनों पार्टियों ने उद्धव ठाकरे का नाम तय कर लिया है। परंतु, महाराष्ट्र में शनिवार सुबह राजनीति का सबसे बड़ा उलटफेर देखने को मिला और सुबह में ही बीजेपी ने अजित पवार एनसीपी गुट के साथ मिलकर सरकार बना ली। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को सीएम और अजित पवार को डिप्टी सीएम पद की शपथ दिलाई।

महाराष्ट्र में बीजेपी नीत एनसीपी अजित गुट ने मिलकर सरकार बना ली है। देवेंद्र फडनवीस मुख्यमंत्री और अजित पवार के डिप्टी सीएम पद की शपथ के बाद देश की राजनीति में शह-मात के खेल में अमित शाह और पीएम मोदी एकबार फिर अव्वल नज़र आते हैं। सत्ता के लिए जिस प्रकार कांग्रेस-शिवसेना-कांग्रेस के बीच बातचीत हो रही थी, कांग्रेस व  एनसीपी के बयानों और रास्तों के बीच परस्पर विरोधाभास दिखाई दे रहा था, शिवसेना-कांग्रेस के बीच वन-टू-वन बातचीत चली और उसके बाद पर्दा गिर गया। दिल्ली में शरद पवार प्रधानमंत्री से अकेले में मिले और मुंबई में बैठकें होती रहीं।

शुक्रवार रात नौ बजे के बाद जब कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी की बैठक के बाद भी अंतिम परिणाम नहीं निकला और एक दिन और बैठक करने की बात सामने आई तो उसी रात महाराष्ट्र की राजनीति बदल गई। शनिवार सुबह पांच बजे के बाद सबकुछ बदल गया। बीजेपी विधायक दल के नेता देवेंद्र फडणनवीस और एनसीपी विधायक दल के नेता अजीत पवार राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश किया। सुबह सात बजे राज्यपाल ने शपथ दिला दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here