पासा पलटने की तैयारी : शिवराज का मंदसौर को ‘महाप्रयाण’ तो सिंधिया का ‘सत्याग्रह’

0
80
भोपाल/रिपोर्ट4इंडिया।
भारत जैसे विशाल जनसंख्या वाले देश में लोकतंत्र वोटरों की संख्या और हैसियत के अनुरूप ही चला करती है। इसके लिए पासा पलटने की चुनौति जहां राजनीतिक पार्टियों की होती है वहीं, माहौल बनाना, मुद्दे उठाना कई स्तरों पर कई संगठनों-सहायकों के मार्फत होता है। फिलहाल, मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के बीच सियासी घमासान चरम पर है। इसमें किसी को लहकाने में तो किसी को  बुझाने में फायदा नज़र आ रहा है।
मंदसौर में पुलिस फायरिंग में आंदोलनरत किसानों के मारे जाने के बाद पहले राज्य के मुख्यमंत्री शांति और संवेदना को लेकर उपवास पर बैठे थे। उधर, कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया मंदसौर जाने के लिए मगज़मारी कर रहे थे। चुकि राज्य में शिवराज की सरकार है तो कांग्रेस सांसद मौके पर नहीं जा सके और उन्हें हिरासत में लेकर मंदसौर से दूर छोड़ दिया गया। अब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने घोषणा की है वे किसानों के समर्थन में भोपाल में 72 घंटे के लिए सत्याग्रह पर बैठेंगे और वे आज से बैठ रहे हैं।
उधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी घोषणा के मुताबिक  आज मंदसौर में पीड़ित परिवारों से मुलाकात करेंगे। सीएम के दौरे को लेकर क्षेत्र में खुफिया एंजेसी सक्रिय हैं। कोई अप्रिय स्थिति न बने, इसका प्रयास किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री के दौरे के दौरान सरकारी स्तर पर ऐसी तैयारी की गई है कि उसके बाद किसानों का आक्रोश कम हो जाए। इसी के मद्देनज़र मंदसौर में सीएम पीड़ित परिवारों को एक-एक करोड़ मुआवजे का चेक भी सौप सकते हैं। साथ ही, पिपलिया मंडी गोलीकांड पर एफआईआर दर्ज करने का एलान भी कर सकते हैं। साथ ही, वे राज्य में किसान यात्रा भी शुरू करने की घोषणा कर सकते हैं।

दरअसल, सीएम ने किसानों के आक्रोश को कम करने के लिए स्वयं मंदसौर जाने का फैसला किया है ताकि इस मुद्दे पर चल रही विपक्षी राजनीति को कूंद कर सकें।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here