राफेल पर राहुल ने झूठ फैलाया, सुप्रीम कोर्ट में माफी मांगी

0
86
rahul-gandhi
राहुल गांधी (फाइल फोटो)

अदालत की अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल जवाब में कहा, राफेल पर उत्तेजना में दिया बयान

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। राफेल को लेकर प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ कंपेन चला रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बड़ी यू-टर्न लिया है। सुप्रीम कोर्ट में अवमानना मामले में दिखिल अपने जवाब में राहुल गांधी ने न केवल खेद जताया बल्कि यह भी कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का आधार बनाते हुए जो बातें कहीं थीं, वह उत्तेजनावश कही गई थी।

राफेल मामले में राहुल गांधी के इस जवाब से बीजेपी को बड़ा मौका मिला गया है। आगे बीजेपी के नेता चुनाव प्रचार के दौरान राहुल के इस तथ्य को जनता के सामने रख उनके झूठ की पोल खोलने का प्रयास करेंगे।

उल्लेखनीय है कि राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार के दौरान मीडिया से बातचीत में राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया है कि चौकीदार चोर है। राहुल गांधी के इस बयान पर बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट की अवमानना की याचिका दाखिल की थी। मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी से जवाब दाखिल करने को कहा था।

अवमानना नोटिस के जवाब में राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, हां मैं मानता हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने कभी नहीं कहा ‘चौकीदार चौर है।’मेरी ओर से यह बयान चुनाव प्रचार के दौरान उत्तेजना में दिया गया था। राहुल गांधी ने इस मामले में अंडरटेकिंग देते हुए कहा कि आगे से मैं पब्लिक में कोई भी ऐसी टिप्पणी नहीं करूंगा, जब तक कि कोर्ट में ऐसी बात रिकॉर्ड में न कही गई हो। साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे शब्दों को विरोधियों ने गलत तरीके से पेश किया है।

सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका की सुनवाई के दौरान बीते 15 अप्रैल को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने माना था कि हमने ये बयान कभी नहीं दिया है, हम इस मसले पर सफाई मांगेंगे। कोर्ट ने कहा कि हम ये साफ करना चाहते हैं कि जो भी विचार कोर्ट को लेकर मीडिया में कहे गए हैं, वह पूरी तरह से गलत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here