गांधी परिवार का ‘आदेशित खड़ाऊ’ किसके माथे!

0
122
congress-hand

राहुल गांधी के इस्तीफे की सार्वजनिक घोषणा के बाद कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता, महासचिव और गांधी परिवार के सबसे करीबी व निष्ठा संपन्न व्यक्ति मोतीलाल वोरा को कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने की चर्चा है। लेकिन इस नाम पर संशय मोतीलाल वोरा का गांधी परिवार के प्रति निष्ठा संपन्नता होना है। एक नाम मुकुल वासनिक का भी सामने है। ट्वीटर पर राहुल गांधी के इस्तीफा के खुला पत्र के बाद कांग्रेस में घमासान की स्थिति है।

डॉ. मनोज कुमार तिवारी/ रिपोर्ट4इंडिया।  

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में स्पष्ट हार के बाद 25 मई 2019 को राहुल गांधी की अपनी मां व यूपीए के चेयरपर्सन सोनिया गांधी को इस्तीफा देने की पेशकश की खबर के 39 दिन बाद आखिरकार राहुल गांधी ने ट्वीटर के माध्यम से अपने इस्तीफे का सार्वजनिक ऐलान पत्र जारी कर दिया। इस पत्र के सार्वजनिक होने के बाद कांग्रेस में बाहर व अंदरूनी राजनीति तेज हो गई है। 39 दिन बीत जाने के बाद भी कांग्रेस में गांधी परिवार से बाहर के किसी भी नेता ने अध्यक्ष पद अपना नाम तक बाहर नहीं आने दिया। कांग्रेस की खासियत है कि कि गांधी परिवार से बाहर का कोई व्यक्ति इस पद पर विराजमान हुआ कि उसका चीर-फाड़ शुरू हो जाएगा और अंतत वह कांग्रेस की राजनीति से बाहर हो जाएगा। ऐसा कांग्रेस का इतिहास भी बताता है।

राहुल के इस्तीफे की सार्वजनिक घोषणा के बाद एक बार फिर कांग्रेस नेता राहुल गांधी से ऐसा न करने की शोर के बीच शीर्ष पद के लिए नई स्थिति के बारे में कयास लगाना भी शुरू कर दिए हैं। कांग्रेस नेता अंदर से जानते हैं कि गांधी परिवार से बाहर के व्यक्ति के लिए पार्टी का अध्यक्ष पद आदेशित ‘खड़ाऊ’ की तरह है। इसके बाद भी कांग्रेस के कई गुट उस अध्यक्ष पद पर विराजमान व्यक्ति का छीछालेदर करने में कहीं से भी कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। कांग्रेस की स्टाइल में यह ‘छीछालेदर’ उस व्यक्ति को अहसास कराने के लिए जारी रहता है कि आपके माथे पर यह आदेशित खड़ाऊ समय के अनुरूप है..अपने को अध्यक्ष समझने की भूल नहीं करेंगे।

कांग्रेस संविधान के मुताबिक अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने के बाद पार्टी के वयोवृद्ध नेता को कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेदारी देने की है। उसके बाद पार्टी की वर्किंग कमेटी अध्यक्ष पद के नाम पर फैसला करेगी। फिलहाल, मोतीलाल पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता व महासचिव है। इससे भी ज्यादा वे गांधी परिवार निष्ठ हैं। उन्हें कार्यकारी अध्यक्ष बनाने की चर्चा है। लेकिन गांधी परिवार इसे लेकर असमंजस में है। कुछ यह चाहते हैं कि वोरा को यह जिम्मेदारी दी जाए तो कुछ चाहते हैं कि जिस संदेश के लिए राहुल गांधी पद से इस्तीफा दे रहे हैं फिर उसपर भी सवाल विपक्षी व अन्य उठाने लगेंगे।

इसके अतिरिक्त मुकुल वासनिक को अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी देने की बात छन-छन कर आ रही है। मुकुल वासनिक गांधी परिवार के बेहद करीबी व निष्ठ व्यक्ति हैं। परंतु, वे जनता के बीच वे सामान्य चर्चा से दूर रहे हैं।

एक नाम राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत का भी सामने आ रहा है। हालांकि, गांधी परिवार के नजदीकी व राजस्थान के कुछ नेता चाहते हैं कि ‘खड़ाऊ’ उनके माथे मढ़कर सीएम बनने का बदला ले लिया जाए। हालांकि, राजनीति के माहिर अशोक गहलोत इसके लिए तैयार होंगे, सोचना कठिन होगा। वैसे गहलोत उम्र के जिस पड़ाव पर हैं और केंद्र में बीजेपी की सरकार बनने के बाद राजस्थान के हालात को देखते हुए संभवत: गांधी परिवार को बहुत मनाने पर मान जाएं। वैसे भी, उन्हें सोनिया और प्रियंका के ईशारे पर ही सीएम की कुर्सी सौंप गई है।

फिलहाल, कांग्रेस की स्थिति राजनीतिक रोचकता और गंभीरता दोनों से सराबोर है। कुछ सूत्र ऐसे भी हैं जो इंगित करते हैं कि 39 दिन के बाद इस्तीफे के ऐलान का मतलब है कि कुछ बातें तय कर ली गईं हैं और बस समय का इंतजार है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here