केजरीवाल मेड EVM के ईजादी सौरभ भारद्वाज़ आयोग के सामने बगले झांकने लगे

0
35
इवीएम को लेकर सवाल उठा रही विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग के सामने अलग-अलग बातें करने लगी
all-party-meeting-on-evm-01
नई दिल्ली/रिपोर्ट4इंडिया। उप्र चुनाव के बाद सीधे ईवीएम पर सवाल खड़े करने वाली बसपा और आम आदमी पार्टी के अलावा कुछ विपक्षी दल दबी जुबान इस मुद्दे पर भाजपा पर तंज कस रहे थे। हालांकि, चुनाव प्रणाली पर किसी तरह का सवाल चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा कर रहा था। आयोग ने कई बार अपनी सफाई में कहा कि भारत में उपयोग की जाने वाली ईवीएम में गड़बड़ी या हेरफेर संभव नहीं है। इसे लेकर ही आयोग ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। हालांकि, इस मद्दे पर आयोग के सामने विपक्ष बंटा नजर आया। दिल्ली विस में केजरीवाल मेक इवीएम लेकर नौटंकी खड़ा करने वाले आप नेता सौरभ भारद्वाज़ चुनाव आयोग के ईवीएम को टेंपरिंग करने की जगह इधर-उधर की बातें करने लगे।
दिल्ली विस में अपनी इजाद किए ईवीएम को लेकर नौटंकी करने वाले आम आदमीं पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज भी बगले झांकते नज़र आए। सामने रखे ईवीएम को छेड़छाड़ कर दिखाने की जगह वीवीपैट से चुनाव कराने की बात करने लगे। वहीं, बसपा बैलेट पेपर से चुनाव के हक में हैं। जदयू के केसी त्यागी ने आयोग से चुनाव को लेकर विश्वास बहाल करने को कहा है। इस दौरान आयोग ने ईवीएम सुरक्षा फीचर को लेकर एक प्रेजेंटेशन भी दिया।
बैठक में सात राष्ट्रीय दलों और 48 क्षेत्रीय दलों सहित कुल 55 पार्टियों को आमंत्रित किया गया। कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और आम आदमी पार्टी समेत करीब 16 विपक्षी पार्टियों की ओर से ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका जताई जाने के बाद चुनाव आयोग ने यह बैठक बुलाई है।
शुक्रवार को चुनाव आयोग की सर्वदलीय बैठक में भाजपा से भूपेंद्र यादव, जेडीयू से केसी त्यागी, आम आदमी पार्टी से मनीष सिसोदिया और सौरभ भारद्वाज, एनसीपी से डीपी त्रिपाठी और बीएसपी से सतीशचंद्र मिश्र शामिल हुए। पिछले महीने चुनाव आयोग ने कहा था कि वो ईवीएम पर सवाल उठा रही पार्टियों को मशीनों के साथ छेड़छाड़ की खुली चुनौती देगी तथा इसके लिए आयोग ने सभी पार्टियों को बैठक में अपने प्रतिनिधि भेजने को कहा था, जिसमें एक तकनीकी विशेषज्ञ हों।
चुनाव आयोग पार्टियों के नुमाइंदों को वोटर वेरिफाइएबल पेपर ऑडिटट्रेल (वीवीपैट) के इस्तेमाल की जानकारी भी देगा। आयोग ने 2019 से हर बूथ पर वीवीपैट मशीनों के इस्तेमाल की योजना बनाई है। इन मशीनों से हर वोट की रसीद निकलेगी जो सात सेकेंड में मशीन से निकलकर सीधे बक्से में चली जाएगी। इस मशीन में वोटर देख सकता है कि उसका वोट सही पड़ा है या नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here