SC के फैसले का बावजूद SYL पर कांग्रेस-बीजेपी का ‘स्टैंड’ समझ से परे : अभय चौटाला

0
35
हरियाणा विस में विपक्ष के नेता ने कहा, शीघ्र एक दिन के विस का विशेष सत्र बुलाए बीजेपी सरकार, चर्चा में मुद्दे पर क्लीयर स्टैंड लें सरकार, राष्ट्रपति से फैसले को शीघ्र लागू करने की हो सिफारिश

abhay-chautala-gur

गुरुग्राम/रिपोर्ट4इंडिया। सतलुज यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर के जल बंटवारा विवाद में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद पंजाब व हरियाणा में राजनीति तेज़ हो गई है। हरियाणा विस में विपक्ष के नेता इनेलो के अभय चौटाला ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को शीघ्र लागू करने की जोरदार वकालत के साथ राज्य की भाजपा सरकार और कांग्रेस पर बड़ा हमला किया है। वरिष्ठ इनेलो नेता ने कहा कि इस मुद्दे पर जहां मुख्यमंत्री गोलमोल बयान रख रहे हैं वहीं कांग्रेस के पंजाब के नेता तीखी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। उन्होंने कहा ऐसा तब है जब सुप्रीम कोर्ट ने करीब 12 साल बाद इस मुद्दे पर अपना निर्णय हरियाणा की जनता के पक्ष में सुनाया है।

अभय चौटाला ने इस मुद्दे पर यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसला आने के बाद भी बीजेपी व कांग्रेस राजनीति कर रही है। पंजाब में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विस सदस्यता से इस्तीफा दे रहे हैं। कांग्रेस के राष्ट्रीय युवा नेता ने सरेआम कहा है कि वह इस निर्णय का विरोध कर हरियाणा को पानी नहीं देने की बात कर रहे हैं। इस मुद्दे पर कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को स्पष्ट रूप से अपना मत रखना चाहिए। पंजाब के कांग्रेस नेताओं का विरोध और हरियाणा के नेताओं का समर्थन से प्रदेश की जनता भ्रम की स्थिति में है।

इस मौके पर अभय चौटाला ने आरोप लगया कि हरियाणा के सीएम मनोहर लाल का बयान भी साफ नहीं है। सीएम खट्टर कहते हैं कि मामला कोर्ट से अब राष्ट्रपति के पास जाएगा। जबकि सीएम को साफ-साफ राष्ट्रपति से अनुरोध करना चाहिए कि वे तुरंत इसे लागू करें।

चौटाला ने कहा कि इनेलो सीएम खट्टर से मांग करती है कि जिस प्रकार उन्होंने राज्य स्थापना के स्वर्ण जयंती के लिए विस का एक दिन का विशेष सत्र बुलाया था वैसे ही वे इस एसवाईएल के मुद्दे पर अतिशीघ्र विस का विशेष सत्र बुलाएं और उसमें सभी पार्टियां अपना पक्ष रखे और आगे की कार्यवाही के लिए कदम उठाया जा सके।

इसके साथ ही, अभय चौटाला ने प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मांग कि है कि वे शीघ्र हरियाणा को उसका हक दिलाने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद भी पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल कह रहे हैं कि वे  हरियाणा को पानी नहीं देंगे। पीएम खुद इसका विरोध करें। हरियाणा को पानी उसका वाजिब हक है।

उन्होंने प्रदेश की जनता का आह्वान किया कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला जनता के लिए दिवाली की तरह है और हम सबी दीप जलाकर इसका स्वागत करें।

इस अवसर पर इनेलो के वरिष्ठ नेता वं पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, प्रधान महासचिव रमेश दहिया, प्रदेश प्रवक्ता दलबीर धनखड़, हल्काध्यक्ष शमशेर कटारिया, नरेश सहरावत, जिला प्रवक्ता कपिल त्यागी, महाबीर राघव आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here