अग्नि-5 के सफल परीक्षण, पूरा चीन, यूरोप भारतीय मिसाइल की जद में

0
87

इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल क्षमता में अब भारत अमेरिका, रूस, फ्रांस व चीन के साथ कदमताल करने लगा है। परीक्षण के बाद भारत के पास अब एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक 5000 किमी. से ज्यादा की मारक क्षमता वाली मिसाइल है।

agni-2

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। भारत ने अंतरमहाद्विपीय बैलेस्टिक अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया। सोमवार दोपहर एक बजकर तीस मिनट पर ओडिशा के समुद्री तट पर स्थित अब्दुल कलाम द्वीप (व्हीलर द्वीप) के एकीकृत परीक्षण केंद्र से अग्नि-5 को हवा में दागा गया। इस मिसाइल की रेंज 5500 किमी से अधिक है। इस परीक्षण से इस मिसाइल की आगोश में पूरा चीन, यूरोप और पाकिस्तान आ गए हैं। अग्नि-5 की टेक्नोलॉजी सबसे एडवांस है, जिसमें नेवीगेशन, गाइडेंस, वॉरहेड और इंजन की अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं।

इस परीक्षण से इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल क्षमता में भारत अमेरिका, रूस, फ्रांस व चीन के साथ कदमताल करने लगा है। भारत के पास अब एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप तक 5000 किमी. से ज्यादा मारक क्षमता रखने वाली मिसाइल है।

17.5 मीटर लम्बी, 2 मीटर चौड़ी, 50 टन वजन यह अग्नि-5 मिसाइल डेढ़ टन विस्फोटक अपने साथ ले जा सकता है। इसकी गति ध्वनि की गति से 24 गुना अधिक है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले अग्नि-5 का पहला सफल परीक्षण 2012, दूसरा 2013, तीसरा 2015, चौथा 2016, पांचवां जनवरी 2018, छठां जून 2018 एवं सातवां सफल परीक्षण आज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here