मेजर आदित्य के खिलाफ FIR पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

0
33
Stone-attack-on-army-in-Kas

कश्मीर के उपद्रवग्रस्त शोपियां में सेना पर पतथरबाज़ी कर रहे कट्टरपंथियों को गोली मारने पर जम्मू-कश्मीर सरकार ने एफआईआर दर्ज करने के लिए दिए थे आदेश।  

Stone-attack-on-army-in-Kas

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। कश्मीर में सेना के मेजर आदित्य के खिलाफ दर्ज एफआईआर पर सुप्रीम कोर्ट ने अंतरिम रोक लगा दी है। साथ ही, इस मामले में कोर्ट ने केंद्र व जम्मू-कश्मीर सरकार को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में पक्ष रखने का आदेश दिया है। मेजर आदित्य के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने के खिलाफ उनके पिता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

इस मामले में याचिकाकर्ता के वकील एश्वर्या भाटी ने कोर्ट के आदेश के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि एफआईआर पर रोक इस मामले में एक बड़ा कदम है। उन्होंने कहा कि कश्मीर के शोपियां में सेना भारतीय तिरंगा और देश की रक्षा के लिए सरकार द्वारा जारी आदेश को लागू करने का काम कर रही थी। ऐसे में जम्मू-कश्मीर सरकार ने बिना किसी जांच के सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी कर रहे देश विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों पर कार्रवाई करने की जगह मेजर आदित्य पर ही एफआईआर पर दर्ज करने के आदेश दिए।

भाटी ने कहा कि, यह केवल मेजर आदित्य का ही मामला नहीं है, बल्कि देश की एकता व अखंडता की रक्षा के लिए तैनात सुरक्षाबलों पर उल्टे केस उनके मन:स्थिति पर विपरित प्रभाव डालता है। साथ ही, देश की सुरक्षा में लगे मानवाधिकार का भी मामला है। आखिरकार, अपने ही देश में आंतकियों को भगाने, उन्हें छुपाने के लिए चेतावनी और आदेश के बावजूद बड़ी संख्या देश के विरोध में कुछ लोग खड़े हो जाते हैं और सेना के काम में अवरोध पैदा करते हैं। देश के दुश्मनों को भगाने और उन्हें सुरक्षा देने का काम करते हैं। ऐसे तत्वों पर कार्रवाई की जगह सेना के मेजर पर एफआईआर करना गलता है। साथ ही, कोर्ट में दलील दी गई कि जम्मू-कश्मीर की सरकार ने ऐसे देश विरोधी तत्वों के खिलाफ दायर हजारों केस भी वापस ले रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here