इराक से पार्थिव शरीर लेकर दिल्ली पहुंचा विशेष विमान, परिजनों को सौंपा

0
24
VK-Singh-in-Iraq

पंजाब सरकार ने 5-5 लाख रुपए की मुआवजे की घोषणा की, 39 में से सबसे अधिक 27 थे पंजाब के   

VK-Singh-in-Iraq

नई दिल्ली। इराक के मोसुल में आईएस द्वारा मार डाले गए 38 भारतीयों के शव सोमवार को पंजाब के अमृतसर एयरपोर्ट पर पहुंचा। यहां शवों को उनके परिवारजनों को सौंप दिया गया। विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह विशेष विमान से शव लेकर सीधे अमृतसर पहुंचे थे। शवों को लेने के लिए पंजाब सरकार के मंत्री और परिजन मौजूद थे।

इराक में मारे गए 39 लोगों में सबसे ज्यादा 27 लोग पंजाब से थे। 2014 में खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस ने 39 भारतीय को अगवा कर उनकी हत्या कर दी थी। एक मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाने के कारण 38 भारतीयों के शव ही वापस लाए जा सके।

पिछले तीन साल से भारत सरकार की तरफ से उनका पता लगाने की कोशिश की जा रही थी। काफी मशक्कत के बाद डीएनए मिलान के बाद मारे गए भारतीयों की शिनाख्त हो सकी। भारत सरकार में विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह भारतीयों के शवों को लाने के लिए इराक गए थे।

राज्य सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने एयरपोर्ट पहुंचकर परिजनों को ढांढस बंधाया। आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह और पूर्व अकाली नेता विरसा सिंह वलतोहा भी एयरपोर्ट पर परिजनों से मिले। पंजाब सरकार ने मारे गए भारतीयों के परिजनों को 5-5 लाख मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देना का एलान किया है।

बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 20 मार्च को संसद में इराक में 39 भारतीयों के मारे जाने की जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि इराक के मोसुल में भारतीयों को आतंकी संगठन ने अगवा कर लिया था और फिर उनकी हत्या कर दी थी। सुषमा स्वराज ने डीएनए मिलान के द्वारा शवों की शिनाख्त किए जाने की बात बताई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here