मसूद पर चीन से नाराज़ अमेरिका ने कहा, दूसरा रास्ता अपनाना होगा

0
31
modi-seei-ping-trump

सुरक्षा परिषद में आतंकी मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन की कार्रवाई का दुनिया भर के देशों ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया। आतंक पर चीन का रवैया संयुक्त राष्ट्र के नियमों व प्रासंगिकता पर भी सवाल।

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की संयुक्त प्रस्ताव पर चीन ने पानी फेर दिया है जिसे लेकर यूरोप व अमेरिका चीन की कार्रवाई पर क़ा विरोध जताया है। अमेरिका ने कहा कि आतंक को लेकर चीन के इस रवैये की बाबत कोई अन्य विकल्प तलाशना होगा।

अमेरिका इस मुद्दे पर कड़ा रूख दिखाते हुए कहा कि अगर इस तरह चीन मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित होने से बचाता रहा तो सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों को सख्त रुख अपनाना पड़ेगा।

उधर, भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी चीन के इस रवैये के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा, सुरक्षा परिषद का गठन उस समय किया गया जब भारत आजाद देश नहीं था। लेकिन, आज की परिस्थितियों में इस वैश्विक संस्था की प्रासंगिकता पर बड़ा सवाल उठ खड़ा हुआ है। दुनिया को एक देश इस तरह से व्यवस्था को ध्वस्त नहीं कर सकता।

जाहिरतौर पर, भारत की तरफ से भी इसे कड़ा जवाब माना जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि चौथी बार चीन ने वीटो इस्तेमाल कर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर को बैन से बचा लिया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here