KASHI : सबकुछ ठीक कर देंगे ‘बाबा’ !

0
471
बाबा काशी विश्वनाथ रात्रि में विहंगम दृश्य

” रंग लेने में मै भी कम माहिर नहीं… । दशाश्वमेघ व काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में बादलों की तरह इधर से उधर उमड़ते-घुमड़ते लोगों से कुरेद पूछ बैठा …और सब ठीक हौ….उधर से एक ही जवाब…’बाबा’ सब ठीक कर देंगे।”

डॉ. मनोज कुमार तिवारी

अयोध्या व काशी में ‘प्रकाश’ की गति बहुत तेज है। पिछले कई दिनों से पूर्वांचल सहित देश-विदेश में काशी नगरी देखने की लोगों में गजब की ललक है। मेन स्ट्रीम मीडिया और सोशल मीडिया …सब जगह काशी के ही चर्चे। विश्वनाथ धाम के चारों ओर जो देदिप्यमान है, वही तो ‘बाबा’ हैं। बाबा ने विचार किया कि ‘गंगा पुत्र’ और ‘साधु’ के स्थापन ने एक प्रकार से कायाकल्प ही कर दिया …अब ‘भक्तों’ पर कृपा में कंजूसी का कोई मतलब नहीं। कहते हैं, भगवान से बड़ा भक्त का नाम ….और आज काशी विश्वनाथ के दरबार में सर्वत्र चर्चा में हैं ‘गंगा पुत्र व बाबा’।

बाबा के कॉरिडोर की कहानी सुन दौड़े चले आ रहे हैं। प्रदेश तो छोड़िये… बंगाल, बिहार, दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, झारकंड, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, हिमाचल, असम आदि का कहना ही क्या। इब… अमेरिकन, रूसी, जर्मन भी चले आ रहे हैं…भभूत-त्रिपुंड लगाये। पूछा क्या इरादा है? बोला… आपके यहां बिना दाढ़ी के बंगलादेशी-रोहिंग्या सब चल रहा, …हम तो भभूति लगाये अमेरिकन हैं। मैंने कहा, …रमो…जमो शौक से …यहां तो सब ‘बाबा’ का है। …पर जाते-जाते बोल ही दिया…’मोडी है तो मुमोकिन है’।

घाट की तरफ चलें, तो दिल्ली वाले चैनलिया के सारे ‘रिंग मास्टर’ पहुंचे हुए थे …जहां-जहां जिसको जगह मिला सब ‘दुकान-दौरी’ लगा दिया। सपा-कांग्रेसी सबको बुलाकर ‘जले पर नमक’ छिड़क रहे हैं। पर करें …क्या? बनारस में ‘कॉरिडोर’ का रंग छाया हुआ है और उनके लिये ‘हर सांस में आस’ की भांति सिर पर बैठा चुनाव ‘तेलिया मसान’ बना हुआ है।

रंग लेने में मै भी कम माहिर नहीं… । दशाश्वमेघ व काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में बादलों की तरह इधर से उधर उमड़ते-घुमड़ते लोगों से कुरेद पूछ बैठा …और सब ठीक हौ….उधर से एक ही जवाब…’बाबा’ सब ठीक कर देंगे। मैं काफी देर तक परिसर में लगाये होर्डिग पर एक तरफ बाबा काशी विश्वनाथ और नीचे बाबा योगी आदित्यनाथ के तस्वीर को गौर से देखने लगा। तभी …जोर से आवाज आयी …’हर-हर महादेव’ औऱ इसी जयकारे के साथ मेरा भी दोनों हाथ अनायास उपर उठ गया।