जनसेवा ही प्रभुसेवा का मार्ग : PM MODI

0
287
कोलकाता (हावड़ा) के बेलूर मठ में युवाओं को संबोधित करते पीएम मोदी।

स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस राष्ट्रीय युवा दिवस पर कोलकाता के बेलूर मठ में पीएम मोदी का संबोधन कहा, भूतकाल में यहां रहने के दौरान मुझे शिक्षा व चेतना मिली उसका व्पयापक असर आज भी दिखता है। बेलूर मठ आना मुझे घर आने जैसा एहसास कराता है।

A. Shukla/ Report4India/ Kolkata (Howrah).

स्वामी विवेकानंद की तपस्थली बेलूर मठ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवाओं को संबोधित कर कहा कि यहां आना और रहना अपने आप में सिद्धी है। दुनिया में सर्वाधिक युवाओं की आबादी भारत में है और उनसे पूरी दुनिया को उम्मीदें हैं। उन्होंने कहा, बेलूर मठ में आना किसी तीर्थस्थल का दर्शन करने जैसा है जो जिम्मेदारी पैदा करता कि जनसेवा का रास्ता ही प्रभुसेवा की ओर जाना है।

इस मौके पर उन्होंने पश्चिम बंगाल सरकार का आभार जताते हुए कहा कि मुझे बेलूर मठ में रात गुजारने का मौका देने के लिए मैं राज्य सरकार का भी आभार प्रकट करता हूं। उन्होंने कहा, ‘हम में से कई लोग यहां (बेलूर मठ) खिंचे चले आते हैं उसका कारण है विवेकानंद जी के विचार, विवेकानंदजी का व्यक्तित्व और इस धरती पर हमें रामकृष्ण परमहंस और अन्य गुरुओं का सानिध्य मिलता है।

पीएम मोदी ने कहा बेलूर मठ आना मेरे लिए घर आने जैसा है। स्वामी विवेकानंद एक व्यक्ति नहीं एक जीवनशैली है।उन्होंने इस मौके पर नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर जारी विवाद का जिक्र कर कहा कि सीएए किसी की नागरिकता छीनने का नहीं बल्कि नागरिकता देने का कानून है।

पीएम मोदी ने इस मुद्दे पर अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि, हमारी सरकार ने वही किया है जो महात्मा गांधी कह कर गए थे। उन्होंने सवाल किया कि क्या पाकिस्तान से प्रताड़िता होकर आए शरणार्थियों को वापस भेज देना चाहिए? उन्होंने कहा कि आज भी किसी भी धर्म का व्यक्ति, चाहे नास्तिक हो, जो भी भारत के संविधान को मानता है वो तय प्रक्रियाओं के तहत भारत की नागरिकता ले सकता है। परंतु, कुछ लोग राजनीतिक कारणों से सीएए को लेकर भ्रम फैला रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय पश्चिम बंगाल दौरे पर हैं। इससे पहले शनिवार देर शाम वह राम कृष्ण मिशन मुख्यालय बेलूर मठ पहुंचे थे। वेलूर मठ के बाद पीएम मोदी सुबह 11 बजे कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट के एक कार्यक्रम में भाग लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here