राष्ट्रपति शासन की तरफ बढ़ रहा पश्चिम बंगाल

0
62

बढ़ती ही जा रही राज्य में खूनी संघर्ष, अब मुर्शिदाबाद में  कांग्रेस और टीएमसी के बीच हिंसा में 3 की मौत

रिपोर्ट4इंडिया ब्यूरो।

नई दिल्ली/ कोलकाता। पश्चिम बंगाल में हिंसा व प्रशासनिक अव्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। राज्य की सीएम ममता बनर्जी रवैया तानाशाही का बना हुआ है। उनके ईशारे पर राज्य की पुलिस और समस्त सरकारी अमला हाथ पर हाथ धरे बैठा है। न तो हिंसा करने वालों की गिरफ्तारी हो रही है और न ही उनमें पुलिस का कोई खौफ रह गया है। राज्य के गांव-गांव व शहर-शहर में लोग या तो अपनी सुरक्षा के लिेए या फिर अपने विरोधियों निपटाने के लिए बम और गोली का इस्तेमाल कर रहे हैं।

राज्य अराजकता की गहरी खाई में तब्दील होता जा रहा है। पहले बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं में झड़प व हिंसा की खबरें थी परंतु, अब टीएमसी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच खूनी संघर्ष शुरू हो गया है। नए हालात के बाद स्थिति बेकाबू नज़र आ रही है। गृहमंत्री से लेकर राज्यपाल हालात पर नज़र रखे हुए हैं।

मुर्शिदाबाद  में ताजा हिंसा में तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई है, जिसमें टीएमसी के तीन कार्यकर्ता मारे गए। पुलिस के  मुताबिक शनिवार सुबह टीएमसी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई जिसमें टीएमसी कार्यकर्ता खैरुद्दीन शेख और सोहेल राणा और एक अन्य की मौत हो गई। हिंसा के बाद इलाके में भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है।

हिंसा में मारे गए खैरुद्दीन के बेटे ने पुलिस को बताया कि सोते समय अचानक घर पर बम से हमला किया गया, जिसमें उसके पिता की मौत हो गई। कुछ दिन पहले खैरुद्दीन के चाचा की भी हत्या कर दी गई थी। हत्या के पीछे उसने कांग्रेस का हाथ बताया।

लोकसभा चुनाव के बाद जारी हिंसा में अबतक 15 से अधिक लोगों की हत्या हुई है, जिसमें ज्यादातर बीजेपी कार्यकर्ता हैं।

राज्य में लगातार हो रहे कानून-व्यवस्था की स्थिति के बीच शनिवार को राज्यपाल ने सीएम ममता बनर्जी को बातचीत के लिए बुलाया है। गृहमंत्री लगातार राज्य के हालात पर नज़र रखते हुए राज्यपाल के संपर्क में हैं। लेकिन ममता बनर्जी जारी अव्यवस्था पर कंट्रोल की जगद घमकी दे रही है। वह कह रही है कि कोई उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। चुनाव में पराजित होने के बाद वह अल्पसंख्यक के अलावा बंगाली कार्ड खेलने का प्रयास कर रही हैं।

उल्लेखनीय है कि फिलहाल राज्य में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को लेकर हड़ताल जारी है और उसका असर देशभर में स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here