Afghanistan: तालिबानी गुटों में फायरिंग-झड़प में मुल्ला बरादर घायल

0
323
मुल्ला अब्दुल गनी बरादर।

मुल्ला अब्दुल गनी बरादर का नाम अफगानिस्तान में बनने वाली तालिबानी सरकार के मुखिया के तौर पर चर्चा में था   

Report4india International Desk/ New Delhi/ With News Agency.

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद तालिबान के गुटों के बीच झगड़े बढ़ते जा रहा हैं। बीते शुक्रवार को ही नयी सरकार के गठन का ऐलान किया गया था लेकिन सरकार गठन की जगह गुटों में अंदरूनी झगड़े बढ़ गये। बताया जाता है कि जिस मुल्ला अब्दुल गनी बिरादर को अफगान सरकार की कमान सौंपने की बात चल रही थी वह आपसी गोलीबारी में घायल हो गया है। हालांकि, अखुंदजादा को भी सरकार की कमान सौंपने की बात चल रही थी।

अफगानिस्तान में सरकार गठन को लेकर ता लिबानी गुटों के बीच झगड़ बढ़ गये हैं। इसी तरह के एक झगड़े में पाकिस्तान परस्त हक्कानी नेटवर्क के तालिबान ने जमकर गोलीबारी की, जिसमें मुल्ला बरादर के घायल होने की खबर है। बताया जाता है कि वह पाकिस्तान के एक अस्पताल में इलाज करा रहा है।

तालिबान में हक्कानी नेटवर्क सबसे खूंखार है। हक्कानी नेटवर्क का एक बड़ा आतंकवादी बीते दिनों काबुल की एक मस्जिद में पहुंचा था। वहां उसने हक्कानी बंधुओं और तालिबान के लिए लोगों को शपथ दिलाई थी। इस आतंकी पर अमेरिका ने 5 करोड़ डॉलर का इनाम भी रखा है। तभी से चर्चा थी कि तालिबानियों में गुटबाजी बढ़ सकती है।

तालिबान के टॉप 7 नेताओं में शामिल मुल्ला बरादर के घायल होने की खबर के बाद तालिबान सरकार के ऐलान देरी हो सकती है। मुल्ला बरादर पाकिस्तान की जेल में छह साल कैद रहने के बाद बीते दिनों रिहा हुआ था। अमेरिका ने बरादर को भी अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित कर रखा है। फिलहाल अफगानिस्तान में उसकी भूमिका को लेकर बाइडेन सरकार में चुप्पी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here