राहुल गांधी जैसे देश तोड़ने वाले कितने आये,…कितने चले गये

0
216

लोकसभा में पीएम मोदी का करारा जवाब, राहुल गांधी का देश को अलग-अलग भाषा-भाषी के आधार पर तोड़ने की कोशिश ‘बांटो व राज करो’ का हिस्सा। कांग्रेस ने अंग्रेजों से सीखा है राज करने के लिए बांटने की नीति

मनोज कुमार तिवारी/रिपोर्ट4इंडिया। 

नई दिल्ली। एक बार फिर पीएम मोदी लोकसभा में कांग्रेस और राहुल गांधी को धोकर रख दिया। इस बार पीएम मोदी ने जिस तरह से राहुल गांधी व कांग्रेस पार्टी को धोया, उसकी दाग जल्दी मिटने वाली नहीं है। अगर राहुल गांधी में थोड़ी- सी भी शर्म बच होगी तो इस चोट को कई दिनों तक सहलाते रहेंगे। राहुल गांधी ने अपनी पुरानी नीति आरोप लगाओं और भाग जाओ की तरह पीएम के संबोधन के दौरान लोकसभा से गायब रहे। उन्होंने पता था कि उनके आरोप बेबुनियाद हैं और वे पीएम मोदी के वार को सह नहीं सकते।

पीएम मोदी ने राहुल गांधी के लोकसभा में तमिलनाडु को बांटने के बोल पर जवाब देते हुए कहा कि राहुल गांधी, कांग्रेस व उसका ईको सिस्टम देश को तोड़ने के लिए जो कुछ कर रहा है, एक राष्ट्र के रूप में भारत की जो समझ है, इससे साफ है कि कांग्रेस खुद अपने कार्य व नीति से यह तय कर रही है कि उसे अगले सौ साल तक सत्ता में नहीं आना है। उन्होंने कहा, कांग्रेस आज टूकड़े-टूकड़े गैंग की लीडर है। कांग्रेस का सत्ता में रहने की नीति है बांटो और राज करो, जो उसने अंग्रेजों से सीखा है। पीएम ने सख्ती से कहा, देश को बांटने वाले इनके जैसे कितने आये और कितने चले गये।

पीएम मोदी ने भारत राष्ट्र की परिभाषा को विष्णु पुराण के श्लोक ‘उत्तरं यत् समुद्रस्य हिमाद्रेश्चैव दक्षिणम्। वर्षं तद् भारतं नाम भारती यत्र सन्ततिः’ का उल्लेख किया और कहा कि हमारे पुराण शास्त्र कहते हैं कि समुद्र के उत्तर में और हिमालय के दक्षिण में जो देश है, उसे भारत कहते हैं तथा उसकी संतानों (नागरिकों) को भारती कहते हैं। इस क्षेत्र में रहने वाले तमिल हैं, आंध्रा हैं, उड़िया हैं, बंगाली हैं, पंजाबी हैं, सिंधी हैं, गुजराती हैं या मराठी इससे फर्क नहीं पड़ता, वे सभी भारतवासी हैं।